breaking news New

मुख्यमंत्री बघेल द्वारा किया गया केरलापाल में गौठान का निरीक्षण

मुख्यमंत्री बघेल द्वारा किया गया केरलापाल में गौठान का निरीक्षण

जगदलपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने नारायणपुर प्रवास की शुरूआत आज ग्राम केरलापाल स्थित गौठान से की। जहां विभिन्न आला अधिकारियों की मौजूदगी में ग्रामीणों ने पारम्परिक नृत्य और तिलक-आरती के साथ उनका आत्मीय स्वागत किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने गौठान का निरीक्षण करते हुए राष्ट्रीय आजीविका मिशन एवं कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा स्थानीय महिला स्व-सहायता समूहों, पशुपालकों हेतु किये जा रहे विभिन्न आजीविका संवर्धन गतिविधियों की भरपूर सराहना की। ज्ञात हो कि ग्राम केरलपाल स्थित यह गौठान 3 एकड़ में फैला हुआ है। जिसमें 198 पशुपालक परिवारों, 113 पंजीकृत गोबर विक्रेता परिवार तथा इसमें 15 महिला समूह कार्यरत है। इस गौठान में लगभग 275 गौवंशों को रखा गया है। इस गौठान में गोधन विक्रय की मात्रा 2352 किलोग्राम है। इसके अंतर्गत विभिन्न गौठान संबंधित गतिविधियां जैसे जैविक खाद निर्माण, चारागाह विकास, उन्नत किस्म के फलदार एवं फूलदार पौधारोपण, सुपोषण वाटिका जैसे कार्य संचालित किया जा रहा है।


मुख्यमंत्री ने सर्वप्रथम राष्ट्रीय आजीविका मिशन (बिहान) की महिला समूहों द्वारा लगाये गये विभिन्न स्टॉलों का निरीक्षण किया। इन स्टॉलों में महिला समूहों द्वारा मशरूम उत्पादन, स्थानीय उत्पादित अनाज जैसे सांवा, कोदो, कुटकी, कुल्थी के प्रसंस्कृत पैकेट को विक्रय हेतु रखा गया था। इसके अलावा बिहान के सौजन्य से यहां बड़ी, पापड़, अचार, मसाले, मिठाईयां, गोबर से बने हुए दीये, साबुन, फिनाईल, जैसे दैनिक उपयोग मे आने वाली सामग्रियों का समूह की महिलाओं द्वारा निर्माण किया जा रहा है। गोठान की स्व-सहायता समूह द्वारा निर्माण किए जा रहे जैविक खाद और विक्रय के संबंध में मुख्यमंत्री श्री बघेल ने समूह की महिलाओं से भी चर्चा किए। इसके साथ ही कृषि विज्ञान केन्द्र के स्टॉल में स्व सहायता समूह की महिलाओं ने हर्बल गुलाल निर्माण, बटेर, बतख एवं कड़कनाथ नस्ल के कुक्कुटपालन के बारे में भी मुख्यमंत्री  बघेल को अवगत कराकर उनसे प्रोत्साहन पाया।

इस दौरान मुख्यमंत्री ने पारंपरिक ‘‘छतौड़ी’’ पहन कर चारा कटाई करके पशुओं को चारा भी खिलाया। तत्पश्चात उन्होंने गोधन न्याय योजना के तहत् गोबर विक्रेता महिलाओं समूहों से भी रूबरू हुए और उन्हें प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा की राज्य शासन की महत्वाकांक्षी सुराजी योजना नरवा, गरवा, घुरूवा और बाड़ी योजनांतर्गत ग्रामीण आर्थिक गतिविधियों को राज्य शासन द्वारा बढ़ावा दिया जा रहा हैं। चूंकि ग्रामीण आर्थिक पृष्ठभूमि में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है अतः महिला सशक्तिकरण के तहत् उन्हें प्राथमिकता देना शासन का प्रथम कर्तव्य है। इसके साथ ही उन्होंने गोबर संग्राहकों से गोधन न्याय योजना के बारे में पूछा और इसे गांव व निर्धनों के विकास के लिए महत्वपूर्ण बताया।


इस अवसर पर ग्राम माहका निवासी पशुपालक  बीरसिंह नाग ने मुख्यमंत्री को अवगत कराया कि गोबर संग्रहण से उन्हें प्रतिमाह 17 हजार रूपये की आय हो रही है उनके द्वारा लगभग 300 किलो से अधिक गोबर संग्रहण किया जा रहा है। जिसके लिए मुख्यमंत्री ने उन्हें बधाई देते हुए सराहना की। तत्पश्चात मुख्यमंत्री ने गौठान में कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा लगाये गये पोषण वाटिका में आम पौधे का रोपण भी किया। इस सुपोषण वाटिका में उन्नत किस्म के आम, अमरूद, पपीता के अलावा फूलदार पौधों की विभिन्न प्रजातियों को लगाया गया है और इस संबंध में महिला समूहों को प्रशिक्षित भी किया जा रहा है। इस मौके पर प्रदेश के वाणिज्य कर एवं आबकारी मंत्री श्री कवासी लखमा, राजस्व मंत्री  जयसिंह अग्रवाल, लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी एवं नारायणपुर जिले के प्रभारी मंत्री रूद्रगुरू, सांसद बस्तर  दीपक बैज, हस्तशिल्प विकास बोर्ड के अध्यक्ष और नारायणपुर विधायक चन्दन कश्यप, अंतागढ़ विधायक अनूप नाग, सहित जिला पंचायत अध्यक्ष  श्यामबती नेताम, नगर पालिका अध्यक्ष  सुनीता मांझी , कमिश्नर बस्तर  जी.आर. चुरेन्द्र, डीआईजी  आनंद छाबड़ा, कलेक्टर धर्मेश कुमार साहू, पुलिस अधीक्षक  मोहित गर्ग सहित अन्य अधिकारी एवं क्षेत्र के जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।