breaking news New

कोविड पीडि़त का शव मुर्दाघर में पड़ा मिला, लगभग ढाई महीने बाद हुआ अंतिम संस्कार

कोविड पीडि़त का शव मुर्दाघर में पड़ा मिला, लगभग ढाई महीने बाद हुआ अंतिम संस्कार

मौत के 75 दिन बाद कोविड मरीज के शव का हुआ अंतिम संस्कार

मेरठ । मेरठ के लाला लाजपत राय मेमोरियल मेडिकल कॉलेज (एलएलआरएमएमसी) में 75 दिनों से अधिक समय से एक कोविड पीडि़त का शव मुर्दाघर में पड़ा मिला है, क्योंकि उसकी पत्नी 15,000 रुपये का भुगतान नहीं कर पाई थी।
पीडि़त 29 वर्षीय नरेश की 15 अप्रैल को कोविड से मौत हो गई थी।
उसकी पत्नी गुडिय़ा अपने पति का शव लेने बस्ती जिले से आई थी, लेकिन कथित तौर पर उसे 15,000 रुपये देने के लिए कहा गया था।
उन्होंने संवाददाताओं से कहा, डॉक्टरों ने 15,000 रुपये मांगे, लेकिन मेरे पास पैसे नहीं थे। उन्होंने कहा कि वे शव का अंतिम संस्कार करेंगे।
इस बीच अस्पताल ने आरोपों से इनकार किया है।
अस्पताल में शवों के निस्तारण की देखरेख करने वाले डॉ विदित दीक्षित ने कहा, मरीज के साथ उसका भाई विजय भी था। जब 15 अप्रैल को मरीज की मौत हुई, तो हमने उस नंबर पर कॉल किया जो विजय ने हमें दिया था। वह बंद था। यह आरोप कि पैसे की मांग की गई थी, झूठा है। हमारे पास यहां पर्याप्त जगह नहीं थी इसलिए हम शव को हापुड़ ले गए जब कोई दावा करने के लिए आगे नहीं आया।
मेरठ के जिलाधिकारी के.बालाजी ने कहा कि उन्होंने आरोपों पर एक जांच बिठाई है।
हापुड़ में प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रमुख डॉ दिनेश खत्री ने कहा कि वे तब से परिवार का पता लगाने की कोशिश कर रहे थे।
हापुड़ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को सूचित किया गया कि किसी ने भी शव पर दावा नहीं किया है। इसे यहां लाया गया और जीएस कॉलेज के मुर्दाघर में रखा गया। उसके बाद, हमने परिवार का पता लगाने की कोशिश की। बाद में, हमने पुलिस से मदद मांगी और जो फोन नंबर दिया गया था, उसे निगरानी में रखा गया था। अंत में, गुडिय़ा का पता लगाया गया और उसे हापुड़ बुलाया गया जहां दो दिन पहले उसकी उपस्थिति में उस व्यक्ति का अंतिम संस्कार किया गया। हापुड़ के जिलाधिकारी अनुज सिंह ने पुष्टि की कि गुडिय़ा अपने पति के अंतिम संस्कार के लिए हापुड़ आई थी।