breaking news New

अब खदान के क्षेत्र में भी महिलाएं कमान संभालने को तैयार

अब खदान के क्षेत्र में भी महिलाएं कमान संभालने को तैयार

रांची । झारखंड की महिलाओं ने इस राज्य का मान सम्मान हमेशा बढ़ाया है. खेल से लेकर कई क्षेत्रों में राज्य की महिलाओं ने अपना लोहा मनवा चुकी हैं. अब खदान के क्षेत्र में भी महिलाएं कमान संभालने को  तैयार है. नोवामुंडी आयरन माइन 2022 साल की शुरुआत से सभी शिफ्टों में ड्रिलिंग, डंपर और फावड़ा संचालन का कार्य महिलाओं के जिम्मे देने जा रहा है. पश्चिमी सिंहभूम के टाटा स्टील की नोवामुंडी आयरन माइन को महिला टीम देखने के लिए तैयार है.

टीम में विशेष रूप से अधिकारियों से लेकर अधिकारियों से लेकर ऑपरेटरों तक में महिलाएं शामिल होंगी ऑपरेटरों तक की महिलाएं शामिल हैं. नोवामुंडी लौह खदान में पहले ही शामिल किया जा चुका है और यह देश में पहली बार होगा कि 30 सदस्यीय टीम खादान को सभी शिफ्टों में स्वतंत्र रूप से लगाया जाएगा. प. सिंहभूम जिले में खदान के अयस्क, खान और खदान (ओएमक्यू) डिवीजन में वीमेन एट माइंस, हेवी अर्थमूविंग मशीनरी (एचईएमएम) के 22 ऑपरेटरों का पहला बैच स्वतंत्र रूप से सभी पारियों में काम करना शुरू कर देगा.

  जामपानी गांव के मुखिया और रेवती पूर्ति सहित 22 मैट्रिक पास महिला ऑपरेटरों के पहले बैच को एक लिखित परीक्षा और व्यक्तिगत साक्षात्कार के बाद 350 आवेदकों में से चुना गया था. आदिवासी परिवारों से आने वाले अधिकांश ऑपरेटरों ने कहा कि उन्होंने कभी स्कूटर तक नहीं चलाया था, लेकिन अब आत्मविश्वास से एचईएमएम का संचालन कर रहे हैं.  

पश्चिम बोकारो मंडल में भी यह पहल की गई है. टाटा स्टील ने 2025 तक कुल कार्यबल में 20 प्रतिशत महिला कर्मचारियों की भर्ती का लक्ष्य रखा है. टाटा स्टील जमशेदपुर में लगभग 90 महिला कर्मचारी वर्तमान में "बी" शिफ्ट में कार्यरत हैं. महिला श्रमिकों के अन्य विभागों में रोजगार की संभावना भी लगातार तलाशी जा रही है. 2019 में केंद्र ने महिलाओं को सवारियों के साथ दिन और रात के दौरान भूमिगत और खुली खदानों में काम करने की अनुमति दी थी।

-