कपालफोड़ी में मनाया गया जातरा पर्व

कपालफोड़ी में मनाया गया जातरा पर्व


मगरलोड। ग्राम कपालफोडी में मंगलवार को मनाया गया जातरा त्यौहार। गांव के पूरे कामकाज को बंद करके यह जातरा पर्व मनाया गया और कोरोना वायरस के चलते सभी नियमों का पालन भी करते हुए लोग दिखे।ज्ञात हो की पैरी नदी किनारे पूर्वजो द्वारा स्थापित पूरे गाँव के कुल देवी माता गुण्डेर दाई विराजमान है। जंहा पूरा गांव के प्रत्येक घर से लोगो द्वारा प्रतिवर्ष की भांति इस वर्ष भी माता रानी में एक श्रीफल समर्पित किया और भक्तो ने अपने घर परिवार एवं पूरा गांव के सुख समृद्धि के लिए कामना किया। ज्ञात हो की यहां माता रानी सूक्ष्म रूप से चारो ओर 24घण्टा विचरण करती हैं ।जिसका प्रमाण कई माता के भक्तों को मिला है।मान्यता है की यहां जो भी भक्त सच्चे मन से पुष्प व फल चढ़ाकर पूजा अर्चना कर जो भी कामना करता है।उसे उनके श्रद्धानुसार फल जरूर मिलता हैं।बता दे यहां माता रानी के परिसर में कोई भी बालिक लड़की और महिला का जाना वर्जित हैं।पहले यहाँ पूर्वजो के द्वारा बलिप्रथा का समर्थन किया जाता था ।लेकिन अब  लोग शिक्षित होने का परिचय देते हुए बलिप्रथा को समाप्त कर सिर्फ एक नारियल चढाते है।कपालफोडी के लोगो द्वारा बलिप्रथा को समर्थन करने वालो के लिए जीव हत्या को समाप्त करने का एक शंदेश दिया हैं। यहाँ के लोगो का कहना है,की किसी जीव की बलि चढ़ा कर लोगो को खुशी नही मिल सकती हैं।गुण्डेर दाई माता का पूजा अर्चना ग्राम  के बैगा पूरन कंवर के द्वारा किया गया व जातरा पर्व का नेतृत्व ग्रामीण विकास समिति के द्वारा किया गया।

chandra shekhar