breaking news New

आत्महत्या.काण्ड : भाजपा दल आत्महत्या करने वाले परिवार के दुखी सदस्यों से मिला, की आर्थिक मदद, किसान नेता गौरी शंकर श्रीवास ने सरकार को घेरा

आत्महत्या.काण्ड : भाजपा दल आत्महत्या करने वाले परिवार के दुखी सदस्यों से मिला, की आर्थिक मदद, किसान नेता गौरी शंकर श्रीवास ने सरकार को घेरा

रायपुर. भारतीय जनता पार्टी ने अभनपुर ब्लॉक के ग्राम केन्द्री में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने गुरुवार को केन्द्री पहुँचकर मामले के सभी पहलुओं की जानकारी ली। भाजपा नेताओं ने इस घटना को अत्यंत पीड़ादायक बताते हुए प्रदेश सरकार को घेरा और इस मामले की सूक्ष्म जाँच कराए जाने की मांग की।

इस दौरान पीड़ित परिवार को सांत्वनास्वरूप आर्थिक सहायता मुहैया कराई गई। विदित रहे कि बीमारी, ग़रीबी और बेरोज़गारी से संत्रस्त ग्राम के कमलेश साहू ने सोमवार की रात अपनी माँ ललिया बाई, पत्नी प्रमिला, बेटी कु. कीर्ति और बेटे नरेंद्र की हत्या करके आत्महत्या कर ली थी। भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, सांसद सुनील सोनी और पूर्व मंत्री चंद्रशेखर साहू,गौरी शंकर श्रीवास, गुलाब टिकरिहा, बाबी कश्यप  मृतक कमलेश साहू के परिजनों से भेंटकर सांत्वना प्रदान की और इस हृदयविरादक घटना के सभी पहलुओं की जानकारी ली।

इस दौरान भाजपा नेताओं ने मृतक के परिजनों से उन कारणों को जानने की भी कोशिश की जिनके चलते कमलेश साहू को यह कदम उठाना पड़ा। परिजनों से चर्चा के पश्चात यह पता चला कि मृतक का स्मार्ट कार्ड नहीं बना था तथा आर्थिक तंगी से भी उक्त परिवार काफी समय से संघर्षरत था। मृतक के बड़े भाई डोमार साहू ने भाजपा के नेताओं को बताया कि घटना के दिन मृतक के कमरे से एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ था, लेकिन पुलिस के अधिकारियों ने सुसाइड नोट दिखाये जाने पर उक्त सुसाइड नोट की लिखावट मृतक कमलेश साहू की लिखावट से मेल नहीं खाने की बात कह दी। इसका विस्तृत ब्योरा पुलिस द्वारा परिवार को नहीं दिया गया है। डोमार साहू ने बताया कि उनका परिवार इस घटना से स्तब्ध है और समझ  नहीं पा रहा है कि यह घटना कैसे घटित हुई?

भाजपा राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. सिंह ने कहा कि यह घटना काफी बड़ी घटना है जिसे किसी भी परिस्थति में सामान्य या छोटी घटना नहीं माना जा सकता। जो हालात और परिस्थति यहां पर आने से पता चली है, उसे देखते हुए इस मामले की सूक्ष्म जांच कराई जानी ज़रूरी है। डॉ. सिंह ने कहा कि यहां जो मौतें हुई हैं, वे काफी असामान्य और दु:खद है। ऐसे दु:ख की घड़ी में भाजपा पीड़ित परिवार के साथ है। मौत के कारण एवं समस्त पहलुओं को जानने और समझने की आवश्यकता है। मानवीय दृष्टिकोण से यह घटना काफी आहत करने वाली है।

नेता प्रतिपक्ष धरम लाल कौशिक ने कहा कि इस घटना से व्यक्तिगत रूप से वह काफी आहत हैं। पीड़ित परिवार के रिश्तेदारों से मिलने के पश्चात यह पता चला कि मृतक कमलेश एक सामान्य व्यक्ति था और उसकी मानसिक हालत भी सामान्य थी। वह किसी भी प्रकार का नशा नहीं करता था। मृतक कमलेश मेहनतकश था। मृतक के परिजनों ने बताया कि परिवार में पत्नी की बीमारी को लेकर कमलेश चिंतित रहता था तथा कई बार प्रयास करने के बावजूद उसका स्मार्ट कार्ड नहीं बनाया गया था, जिसके चलते आर्थिक तंगी की वजह से वह इलाज कराने में स्वयं को अक्षम महसूस कर रहा था।

नेता प्रतिपक्ष श्री कौशिक ने कहा कि कमलेश को यह आत्मघाती कदम किन हालात और परिस्थतियों में उठाना पड़ा, यह जांच का विषय है। श्री कौशिक ने इस बात पर भी दु:ख जताया कि राजधानी से लगे होने के बावजूद सरकार का कोई भी मंत्री अभी तक मृतक के परिजनों से नहीं मिला और न ही किसी प्रकार की कोई सहायता दी गई। यह इस सरकार की संवेदनहीनता को प्रदर्शित करता है। यह मौत काफी संदिग्ध परिस्थतियों में हुई है और इस मामले से जुड़े तथ्यों का खुलासा होना बेहद ज़रूरी है। भाजपा इस प्रकरण की न्यायिक जांच की मांग मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से करती है।

इस दौरान सांसद सुनील सोनी, पूर्व मंत्री चन्द्रशेखर साहू, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष अशोक बजाज, भाजपा नेता गौरीशंकर श्रीवास, जिलाध्यक्ष ग्रामीण गुलाब टिकरीहा बाबी कश्यप समेत सभी भाजपा कार्यकर्ता उपस्थित थे.