दुर्ग : निजी अस्पतालों में औचक निरीक्षण कर बिल एवं डिस्चार्ज स्लिप की जांच करेंगे नोडल अधिकारी

दुर्ग : निजी अस्पतालों में औचक निरीक्षण कर बिल एवं डिस्चार्ज स्लिप की जांच करेंगे नोडल अधिकारी

दुर्ग . जिले में कोरोना के इलाज के लिए चिन्हांकित निजी अस्पतालों में नागरिकों की शिकायत दूर करने अस्पताल प्रबंधकों से समन्वय के लिए नियुक्त किये गए नोडल अधिकारी अब औचक निरीक्षण कर इन अस्पतालों में कोविड मरीजों से लिये जा रहे बिल आदि की जांच भी करेंगे। आज अपर कलेक्टर  बीबी पंचभाई ने इस संबंध में नोडल अधिकारियों को निर्देशित किया। उन्होंने कहा कि शासन द्वारा कोरोना के इलाज हेतु लिये जाने वाले शुल्क के संबंध में गाइडलाइन जारी की है। नोडल अधिकारी समय-समय पर औचक निरीक्षण कर यह देखें कि इन गाइडलाइन का पालन इन अस्पतालों द्वारा किया जा रहा है या नहीं। उन्होंने कहा कि वे अस्पताल में इन मरीजों से संबंधित बिल एवं डिस्चार्ज स्लिप आदि देखें। किसी भी मरीज से अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाना चाहिए। अपर कलेक्टर ने कहा कि उदाहरण के लिए कांट्रैस्ट के बगैर सीटी स्कैन का दर 1870 रुपए है और विथ कांट्रैस्ट 2354 रुपए है। नोडल अधिकारी यह देखें कि बिलिंग इसी के अनुरूप हो। नान एनएबीएच मान्यता प्राप्त वाले अस्पतालों में आइसोलेशन बेड की दर 6200 रुपए है इसमें सपोर्टिव केयर, आक्सीजन तथा पीपीई किट शामिल है। नान एनएबीएच में आईसीयू (बिना वेंटीलेटर के, पीपीई किट की सुविधा के साथ) दस हजार रुपए तथा आईसीयू वेंटीलेटर केयर के साथ (इनवेसिव-नान इनवेसिव) पीपीई किट की सुविधा सहित का रेट चैदह हजार रुपए रखा गया है। इसके अनुरूप ही बिलिंग हो। नोडल अधिकारी यह भी देखें कि अस्पताल गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन कर रहे हैं या नहीं।