breaking news New

कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकना कठिन, कमजोर इन्फ्रास्ट्रक्चर बाधक , लॉकडाउन पर्याप्त नहीं : राजन

कोरोना  वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकना कठिन, कमजोर इन्फ्रास्ट्रक्चर बाधक , लॉकडाउन  पर्याप्त नहीं : राजन

 

 नई दिल्ली। भारतीय रिजर्व बैंक  के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा है कि खतरनाक रूप से पैर पसार रहे पूरी दुनिया को अपनी आगोश में लेकर तबाही मचा रहा है। लोगों में भय व्यापत है।    कोरोना जैसी महामारी को रोकने के लिए केवल देशव्यापी लॉकडाउन ही पर्याप्त नहीं है। 


उन्होंने  कहा कि यह एक गंभीर चिंता का विषय है, क्योंकि लॉकडाउन न केवल लोगों को काम पर जाने से रोकता है, बल्कि यह उन्हें घर पर ही रखता है और जरूरी नहीं कि ये घर पुरातन व्यवस्था के मुताबिक दूर-दूर हों, बल्कि यह झुग्गी-झोपड़ी भी हो सकता है, जहां लोग एक साथ मिलकर रहते हों।


राजन ने कहा कि लॉकडाउन से समाज के गरीब तबके के लोगों की मुश्किलें बढ़ जाएंगी।  ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के जरिये उन्होंने कहा कि, 'कोरोना  वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकना कठिन है।


 केंद्र सरकार ने 21 दिनों के लंबे लॉकडाउन की घोषणा की है, जिससे देश की अर्थव्यवस्था चरमरा गई है। करोड़ों लोग अपने घर पर  ही रहने को मजबूर हैं, जिसके कारण अधिकतर लोगों के समक्ष बुनियादी सुविधाओं जैसे भोजन और दवाओं की समस्या खड़ी हो गई है।


उन्होंने कहा -सरकार की कोरोना संक्रमण से लड़ाई में देश की कमजोर बुनियादी संरचना बाधक है। उन्होंने कहा कि मौजूदा स्वास्थ्य संकट से निपटने में तमाम संसाधनों का इस्तेमाल करने की जरूरत है।


राजन ने कहा - 'हर देश घबराया हुआ है, इसलिए थोड़ा बहुत असमंजस की बात समझ में आती है। आपको बाकी दुनिया के बारे में सोचने से पहले अपने देश में चिकित्सकीय आपूर्ति के बारे में ध्यान देना चाहिए।'

chandra shekhar