breaking news New

जनजागरण यात्रा के दिखावे से मंहगाई कम नही हो सकती है

जनजागरण यात्रा के दिखावे से मंहगाई कम नही हो सकती है

जगदलपुर। भाजपा के बस्तर जिलाध्यक्ष रूपसिंह मंड़ावी ने कांग्रेस के मंहगाई पर जनजागरण यात्रा को लेकर कहा कि कांग्रेस की सरकार मंहगाई को लेकर गंभीर होती तो जनता को राहत पंहुचाने के लिए काम करती। कांगे्रस की सरकार अपने कर्तव्यों से भाग रही है।

छत्तीसगढ़ की जनता कांग्रेस से यह सवाल पूछ रही है कि कांग्रेस की सरकार ने महंगाई कम करने के लिए क्या कदम उठाए। उन्होने कहा कि कांग्रेस सत्तासीन होकर जनजागरण यात्रा से महंगाई कम करने निकली है, कांग्रेस की जनजागरण यात्रा के दिखावे से मंहगाई कम नही हो सकती है, यह छत्तीसगढ़ की जनता जानती है। 

       रूपसिंह मंड़ावी ने कहा कि यदि कांग्रेस की सरकार जनता को मंहगाई से निजात दिलाना ही चाहती तो जनजागरण यात्रा के स्थान पर पेट्रोल और डीजल में जितनी रकम केंद्र सरकार ने कम की है उतनी ही रकम कम कर देती तो छत्तीसगढ़ की महंगाई अपने आप कम हो जाती।

लेकिन इन कांग्रेसियों को कौन समझाए कि छत्तीसगढ़ की सत्ता में बैठे कांग्रेसी सरकार को महंगाई कम करने के लिए समुचित कदम उठाकर छत्तीसगढ़ की जनता को राहत पहुंचाना चाहिए था। लेकिन असफल हो चुकी कांग्रेस की प्रदेश सरकार जन जागरण यात्रा कर महंगाई कम करने निकली है।

वहीं दूसरी ओर कांग्रेस की गलत नितीयों के कारण प्रदेश के 21 हजार स्वसहायता समूह के 07-08 लाख महिलाओं को रोजगार से वंचित कर दिया है। गरीबों की हितैशी बनने का ढोग करने वाली कांग्रेस ने 02 लाख गरीबों को प्रधानमंत्री आवास से वंचित कर दिया है, जनता कांग्रेस को इसका जवाब देगी।

    उन्होंने कहा कि सत्तासीन कांग्रेस को सड़क से संसद तक महंगाई की लड़ाई लडऩे से पहले अपने कर्तव्यों का पालन नहीं कर पाने के लिए जनता अब नकारने लगी है। उन्होंने कहा कि पेट्रोल और डीजल के कीमतों को प्रदेश की कांग्रेस सरकार पहले कम नहीं करने के लिए अड़ी रही और अब दिखावे के लिए छत्तीसगढ़ की जनता को कमी का झुनझुना पकड़ाकर जनजागरण यात्रा के माध्यम से जनता को गुमराह करने का काम कर रही है।

सरकार में बैठे कांग्रेस को महंगाई कम करने के लिए कौन सा कदम उठाया है यह बताना चाहिए यदि कांग्रेस की सरकार महंगाई कम करने के लिए समुचित कदम नहीं उठा सकती तो जन जागरण यात्रा कर महंगाई के नाम पर जनता को गुमराह करने का काम बंद करना चाहिए।