breaking news New

वैक्सीन वेस्टेज के झूठे आंकड़ों के सहारे मोदी सरकार की नाकामी छुपाने में लगी भाजपा

 वैक्सीन वेस्टेज के झूठे आंकड़ों के सहारे मोदी सरकार की नाकामी छुपाने में लगी भाजपा

  मोदी सरकार ने 6.63 करोड़ वैक्सीन विदेश भेजकर वेस्टेज किया...
वैक्सिन में देश की जनता का पहला अधिकार था...

सूरजपुर । वैक्सीन वेस्टेज के फर्जी एवं झूठे व मनगढ़ंत आंकड़ो के सहारे भाजपा मोदी सरकार के वैक्सीन देने में नाकामी को छुपाने में लगी। भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रतिनिधि एआईसीसी मेंबर सुनील अग्रावल ने कहा कि मोदी सरकार के नाकामी विफलताओं और महामारी रोकने में कुप्रबंधन,वैक्सीन की किल्लत से जनता का ध्यान भटकाने के लिए भाजपा नेता अधिक मात्रा में वैक्सिन वेस्टेज होने का फर्जी एवं झूठा मंगढ़त आंकडे जारी कर रहे है।वैक्सीन के किल्लत एवं महामारी के कारण देश भर में हुई लाखों की मौत और 3 करोड़ से अधिक प्रभावितों से जनता का ध्यान भटकाने के लिए भाजपा के केंद्रीय नेता से लेकर राज्य स्तर के नेता संगठित होकर झूठ बोल रहे हैं।एक झूठ को सौ बार बोलकर सच को दबाने की कोशिश कर रहे हैं।

सुनील अग्रवाल ने कहा कि मोदी सरकार महामारी काल में देश की जनता के साथ धोखा व छल किया है। महामारी से जूझ रही जनता बेसब्री से वैक्सीन का इंतजार करते रही और जब वैक्सीन आया तब मोदी सरकार वाहवाही लूटने के लिए देश के 133 करोड़ जनता को वैक्सीन से वंचित रख कर 6.63 करोड़ वैक्सीन को विदेश में भेजने का काम किया है।जिसका दुष्परिणाम देश में आज वैक्सीन की किल्लत हो गई है और देश की जनता को वैक्सीन नहीं मिल रहा है।भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं  पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह,नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय महामारी काल में छत्तीसगढ़ की जनता के स्वास्थ्य को लेकर दिखावटी चिंता कर रहे हैं,घडिय़ाली आंसू बहा रहे हैं।

भाजपा नेताओं को वास्तविक में छत्तीसगढ़ की जनता की स्वास्थ्य की सुरक्षा की चिंता है तो मोदी सरकार को राज्य सरकार के द्वारा मांगी गई सवा करोड़ वैक्सीन की तत्काल सप्लाई करने पत्राचार करना चाहिए। घर में बैठकर,धरना-प्रदर्शन की राजनीतिक नोटंकी करने वाले भाजपा सांसदों को मोदी के आवास में बैठकर छत्तीसगढ़ के लिए वैक्सीन देने की मांग करनी चाहिए।छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के मुखिया  भूपेश बघेल व स्वास्थ्य मंत्री  टी एस सिंहदेव सहित सरकार के प्रतिनिधि सच्चे मायनो में मानवीय मूल्यों के कर्तव्यों का निर्वहन कर इस महामारी के खिलाफ़ प्रदेश में बेहतर प्रबंधन व स्वास्थ्य सेवाओं का संचालन कर रहे है।गाँव-गाँव में आईसोलेसन सेंटर व स्वास्थ्य सेवाओं के लिए प्रदेश के कोरोना वारियर्स जी जान से लगे है।ऐसे में केंद्र सरकार की नाकामी और मानवीय संवेदनाओं के प्रति नजरिये को लेकर आम जन मानस में रोष का वातावरण है।