breaking news New

दो पार्षद के बीच जुबानी जंग, सामुदायिक भवन को लेकर कामरेड सुधीर मुखर्जी वार्ड के पूर्व पार्षद गोवर्धन शर्मा और भाजपा पार्षद मृत्युंजय दुबे के बीच बयानबाजी, जोन आयुक्त बीच में फंसे

दो पार्षद के बीच जुबानी जंग, सामुदायिक भवन को लेकर कामरेड सुधीर मुखर्जी वार्ड के पूर्व पार्षद गोवर्धन शर्मा और भाजपा पार्षद मृत्युंजय दुबे के बीच बयानबाजी, जोन आयुक्त बीच में फंसे

जनधारा समाचार
रायपुर. कामरेड सुधीर मुखर्जी वार्ड के पूर्व पार्षद गोवर्धन शर्मा ने भाजपा पार्षद मृत्युंजय दुबे पर सामुदायिक भवन पर कब्जा करने का आरोप लगाया है. उन्होंने कहा कि नगर निगम के जोन आयुक्त चंदन शर्मा को नही हटाया जाता तो अधिकारी का जोन में घेराव कर मुंह काला किया जायेगा और इनकी हकीकत साझा की जायेगी.


कांग्रेस नेता गोवर्धन शर्मा के मुताबिक इस विवाद की शुरूआत भाजपा पार्षद मृत्युंजय दुबे के उस बयान से हुई जिसमें उन्होंने समाचार—पत्रों में यह बयान दिया था कि लाखेनगर के गांधीनगर में बने सामुदायिक भवन में पर मेरा यानि कि गोवर्धन शर्मा का कब्जा है. उन्होंने कहा कि खुद का घर शीशे का हो तो दूसरे घर में पत्थर नही फेंके जाते. पार्षद के वार्ड में अश्विनीनगर के एक सरकारी सामुदायिक भवन में सालों से आरएसएस का कब्जा है मगर वह मृत्युंजय दुबे को नही दिखता लेकिन मैं इस सामुदायिक भवन का संरक्षक हूं और जो हर महीने किराये से आर्थिक लाभ दे रहा है, उसे दुबे कब्जा वाला बता रहे हैं.

श्री शर्मा ने आगे कहा कि लाखेनगर के गांधीनगर में बना सामुदायिक भवन 2003 में नगर निगम द्वारा बनाया गया था. उसके बाद इसे किराये से चलाया जाने लगा. पहले इसका किराया 22 हजार था लेकिन जनता की मांग के बाद किराया 5500 कर दिया गया है. यहां पर कई तरह के सार्वजनिक कार्यक्रम होते हैं और कभी भी खाली नही रहता. इस भवन का सारा जिम्मा जोन आयुक्त चंदन शर्मा के पास है. चाबी भी उनके पास है और किराया भी वहीं जमा होता है. मैं तो सिर्फ संरक्षक हूं ताकि वहां पर आसामाजिक तत्वों का बोलबाला ना हो जाए. इसलिए दुबे को इस सामुदायिक भवन पर नजर रखने के बजाय अश्विनीनगर के सामुदायिक भवन को बचाना चाहिए जोकि आरएसएस के कब्जे में है.

उन्होंने चेतावनी दी कि जोन आयुक्त चंदन शर्मा भाजपाई विचारधारा वाले अधिकारी हैं. उन्हें सुधर जाना चाहिए क्योंकि अब कांग्रेस की सरकार है अन्यथा उनका घेराव कर मुंह काला किया जायेगा.