breaking news New

धर्म परिवर्तन को लेकर अफवाह फैलाने के आरोप में अज्ञात लोगों के खिलाफ FIR

धर्म परिवर्तन को लेकर अफवाह फैलाने के आरोप में अज्ञात लोगों के खिलाफ FIR

गाजियाबाद।  गाजियाबाद के वाल्मीकि समुदाय के 236 लोगों के बौद्ध धर्म अपनाने के कुछ दिनों बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने धर्म परिवर्तन को लेकर कथित तौर पर अफवाह फैलाने के आरोप में अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, गाजियाबाद के करहैड़ा गांव के वाल्मीकि समुदाय के लोगों का कहना है कि उन्होंने 14 अक्टूबर को बीआर आंबेडकर के पड़पौत्र राजरत्न आंबेडकर की मौजूदगी में बौद्ध धर्म स्वीकार किया था.

एक कथित सामाजिक कार्यकर्ता मोंटू चंदेल (22) की शिकायत के बाद गुरुवार को साहिबाबाद पुलिस थाने में एफआईआर दर्ज की गई. आईपीसी की धारा 153ए और 505 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है.

एफआईआर में कहा गया है, ‘कुछ अज्ञात लोगों और संगठनों ने 230 लोगों के धर्म परिवर्तन को लेकर अफवाह फैलाई. इस संबंध में जारी किए गए प्रमाण-पत्र में किसी का नाम या पता नहीं है और न ही इसे जारी करने की कोई तारीख है, इसके साथ ही कोई रजिस्ट्रेशन नंबर भी नहीं है. इस पर किसी का भी नाम लिखा जा सकता है. आपराधिक साजिश के अनुसार जाति आधारित तनाव बढ़ाने का प्रयास किया गया है.’

इस मामले पर राजरत्न आंबेडकर का कहना है कि 1955 में डॉ. आंबेडकर द्वारा स्थापित द बौद्धिस्ट सोसाइटी ऑफ इंडिया ने 236 लोगों को धर्म परिवर्तन करने को लेकर प्रमाण-पत्र जारी किए गए थे.

उन्होंने कहा, ‘वे 14 अक्टूबर को करहैड़ा गांव में हुए धर्म परिवर्तन को अफवाह कैसे कह सकते हैं? मैं वहां मौजूद था. इस कार्यक्रम का फेसबुक पर लाइव प्रसारण हुआ था, कार्यक्रम की तस्वीरें भी हैं. एफआईआर का आधार क्या है?’

इनका कहना था कि हाथरस में 19 साल की दलित युवती के साथ जो हुआ, उसके बाद हमने धर्म परिवर्तन का फैसला किया. बौद्ध धर्म में कोई जाति नहीं है. वहां कोई ठाकुर या वाल्मीकि नहीं है. हर कोई सिर्फ इंसान है, सभी सिर्फ बौद्ध हैं.