breaking news New

संकट भरे समय पर केंद्र का किसानों को झटका- विपिन साहू

संकट भरे समय पर केंद्र का किसानों को झटका- विपिन साहू


धमतरी, 9 मई। जिस तरह यह अनुमान लगाया जा रहा था की पांच राज्यों के चुनाव के बाद केंद्र सरकार अपना मुगल शाही रुख रखते हुए अनैतिक सभी जरुरत मंद चीजों मे मूल्य वृद्धि करेगी वह अनुमान सही होते नज़र आ रहा है देश की रीड की हड्डी कहे जाने वाले हमारे किसान बंधुओ पर केंद्र सरकार द्वारा तुगलकी फरमान जारी किया गया है जिसके चलते रसायनिक खाद मे 58 प्रतिशत की वृद्धि की है जो की पिछले वर्ष की तुलना मे 700 से 1000 रुपए महंगा हो जायेगा। 

एक तरफ ताला बंदी के चलते हमारे किसान भाई ऐसी ही दुविधा मे है तो दूसरी तरफ केंद्र सरकार का ऐसा रवैय्या चिंता करने योग्य है जानकारी के अनुसार अभी रबी सीजन 2020-21 मे डी ए पी किसानो को 1200 रुपए प्रति बोरा के दर पर उपलब्ध कराई गई थी। खरीफ सीजन में इसका मूल्य बढ़कर 1900 रुपए प्रति बोरा कर दिया गया है। इस फैसले से धान, सब्जी और अन्य फ़सल लेने वाले किसानो की दुविधा बढ़ जायेगी।

 केंद्र सरकार एक तरफ जय जवान जय किसान का नारा गाते रहती है परंतु इनके कथनी और करनी में बेताहसा दोगलापन नज़र आता है। राज्य सरकार इस आदेश को किसानो के खिलाफ बताया है और राज्य के किसानो के साथ खडा हो कर इस आदेश को पूर्णतः खारिज किया है  और केंद्र से आग्रह किया की वे खाद कंपनियों की मनमानी पर अंकुश लगाते हुए मूल्य वृद्धि वापस ले।