breaking news New

धान खरीदी केंद्रों में उठाव नही होने से धान खरीदी हो रहे प्रभावित

धान खरीदी केंद्रों में उठाव नही होने से धान खरीदी हो रहे प्रभावित

भानुप्रतापपुर। अब तक धान ख़रीदी केंद्रों में धान के उठाव नही होने से  धान खरीदी प्रभावित हो रही है। विगत 1 दिसम्बर से समर्थन मूल्य पर  धान खरीदी प्रारंभ है,कल 22 दिसम्बर तक की स्थिति क्षेत्र के सभी धान खरीदी केंद्रों पर क्षमता से कही अधिक धान की खरीदी किये जा चुके है। अभी तक लगभग 30 प्रतिशत ही किसानों का धान खरीदी हूई है,शेष अब भी 70 प्रतिशत धान खरीदी किये जाने है। लेकिन धान खरीदी केंद्रों पर धान के उठाव नही होने से किसानों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, वही दूसरी ओर लैम्प्स व धान ख़रीदी सेन्टर के कर्मचारियों को धान सूखती शार्टेज की समस्या सताये जा रहे है। नए बारदाना के भी किलकत बनी हुई है।

विदित हो कि किसानों की समस्याओं को देखते हुए हालकि इस वर्ष से शासन स्तर पर लेम्प्स व धान खरीदी सेंटर तो बढ़ा दिए है, लेकिन पर्याप्त बारदाना व समय पर उठाव नही होने से इस बार भी समस्या विकराल बनी हुई है। लगभग सभी ख़रीदी सेंटरों में जगह नही होने से धान खरीदी बंद होने की स्थिति निर्मित हो सकती है।

 बहरहाल क्षेत्र में धान खरीदी केंद्रों में आज की स्थिति 

1, दमकसा धान खरीदी केंद्र

22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 11736 क्विंटल किये जा चुके है जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 2000 क्विंटल की है।

2, संबलपुर में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 17169.20 क्विंटल किये जा चुके है जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 6839 क्विंटल की है। 

3 कोडेकुर्से में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 9760 क्विंटल किये जा चुके है जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता  105 क्विंटल की है।

4 सुरउँगदोह में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 4450 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 1500 क्विंटल की है।

5, लोहत्तर में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 3479 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 1500 क्विंटल की है।

6, चिखली में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 7569 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 2000 क्विंटल की है।

7,कोदापाखा में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 9785 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 1000 क्विंटल की है।

8, दुर्गुकोंदल में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 14402 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 3000 क्विंटल की है।

9, भानुप्रतापपुर रानवाही में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 10255.20 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 2800 क्विंटल की है।

10, कच्चे में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 6621.20 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 2600 क्विंटल की है।

11, भानबेड़ा  में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 8395.07 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 1838 क्विंटल की है।

12, हाटकोंदल में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 9538 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 4000 क्विंटल की है।

13, कोरर में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 15394.14 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 2000 क्विंटल की है।

14, सेलेगाव में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 8357.7 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 1000 क्विंटल की है।

15 ,हाटकर्रा में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 11345 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 1000 क्विंटल की है।

16, बैजनपुरी में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 16585 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 2000 क्विंटल की है।

17, केवटी में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 9529.60 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 5000 क्विंटल की है।

18, आसुलखार में 22 दिसम्बर तक के ख़रीदी कुल 5566.40 क्विंटल किये जा चुके है,जबकि धान खरीदी केंद्र की क्षमता 3000 क्विंटल की है।

विदित हो कि 18 धान खरीदी सेंटरों में जब से धान खरीदी प्रारंभ हुई है,तब से लेकर आज तक धान का उठाव नही किया 

गया है,हालकि कही कही समितियों में धान उठाव किये जाने पत्र आने की बात कर्मचारियों द्वारा किया गया है। 

कर्मचारियों का कहना है कि समय पर धान का उठाव नही किये जाने से धान के सूखती से वजन कम होंगे जिसकी भरपाई कर्मचारियों को करना पड़ेगा,गत वर्ष भी यही समस्या रही हैं  वही क्षमता से अधिक धान खरीदी  किये जाने से रख रखाव के भी चिन्ता सताये जा रही है। खराब मौसम व बारिश हो जाये तो हमारे पास पर्याप्त व्यवस्था भी नही है। इनके अलावा अब तक बारदाना पीडीएस,मिलिंग से ही संग्रहित किये गए बारदाना से खरीदी किये जा रहे थे,कुछ दिन बाद वह भी समाप्त हो जाएंगे,नए बारदाना नही आ रहे हैं जिसके चलते खरीदी प्रभावित हो सकते है!