breaking news New

विधानसभा ब्रेकिंग : भाजपा का बहिष्कार जारी..मनाने के लिए अध्यक्ष के बुलावे का इंतज़ार.. उधर अध्यक्ष चरनदास महंत अड़े कि मैंने तो व्यवस्था का सवाल उठाया है.. मेरी कोई गलती नही..भाजपा विधायक महालेखाकार से मिलने जा रहे

विधानसभा ब्रेकिंग : भाजपा का बहिष्कार जारी..मनाने के लिए अध्यक्ष के बुलावे का इंतज़ार.. उधर अध्यक्ष चरनदास महंत अड़े कि मैंने तो व्यवस्था का सवाल उठाया है.. मेरी कोई गलती नही..भाजपा विधायक महालेखाकार से मिलने जा रहे

अनिल द्विवेदी

रायपुर. छत्तीसगढ़ विधानसभा के बजट सत्र में आज की कार्यवाही शुरू हुई तो विपक्षी भाजपा विधायक अपनी सीटों से नदारद थे। भाजपा का बहिष्कार जारी है जबकि सत्ता पक्ष की ओर से सदन में चर्चा जारी है।

सूत्रों के मुताबिक भाजपा विधायक इस बात पर अड़े है कि विधानसभा अध्यक्ष अपनी तरफ से बातचीत के लिए बुलाएं और विधानसभा अध्यक्ष का सवाल डॉ महंत का सवाल वाजिब है कि यदि मेरी कोई गलती नहीं है। मैंने एक संवैधानिक व्यवस्था का सवाल उठाया है तो विपक्ष को मैं अपनी तरफ से बातचीत के लिए क्यों बुलाऊं।

दूसरी ओर जारी गतिरोध पर विपक्ष के नेता धर्मजीत सिंह ने विधानसभा अध्यक्ष से कल शाम को ही सदन में आग्रह किया था कि सत्ता पक्ष और सदन की चर्चा विपक्ष की उपस्थिति के बगैर सूनी लग रही है। विपक्षी विधायकों का बहिष्कार अच्छी बात नहीं है। यह गतिरोध तोड़ना चाहिए। धर्मजीत ने विधानसभा अध्यक्ष से आग्रह किया कि वे अभी चर्चा को रोककर विपक्ष को सदन में आने के लिए मनाएं हालांकि महंत ने इस पर कोई जवाब नहीं दिया और चर्चा जारी रहने दी।

उम्मीद थी कि आज सदन शुरू होने क्व पहले गतिरोध खत्म हो जाएगा मगर वह बना हुआ है। सूत्र बताते हैं कि विधानसभा अध्यक्ष महंत को कई विधायकों ने आग्रह किया कि वह विपक्ष को सदन में आने के लिए मनाएं। 

दूसरी और विपक्ष विधानसभा में ही नेता प्रतिपक्ष के कमरे में बैठा हुआ है और अपनी रणनीति पर काम कर रहा है।विपक्षी विधायकों के बहिर्गमन के तत्काल बाद कृषि मंत्री रविंद्र चौबे जो संसदीय कार्य मंत्री हैं उन्होंने नेता प्रतिपक्ष के कमरे में जाकर विपक्षी विधायकों से चर्चा भी की लेकिन बात नहीं बन सकी। अभी भी गतिरोध बना हुआ है और यह देखा जा रहा है कि बातचीत कैसे शुरू होती है। इसकी पहल विधानसभा अध्यक्ष की तरफ से होगी या विपक्षी विधायक या नेता प्रतिपक्ष के तरफ से। 

दूसरी ओर विपक्षी विधायक आज महालेखाकार ऑफिस में भी प्रदर्शन के लिए जा रहे है। उनकी मांग है कि जो सेज लगाया गया है सरकार की तरफ से, वह गलत है, जनता के साथ अन्याय है। दोपहर लंच के बाद गतिरोध खत्म होने की उम्मीद है। 

फिलहाल विधानसभा में सत्तापक्ष के विधायक चर्चा कर रहे हैं और विधानसभा अध्यक्ष को सदन की कार्यवाही चला रहे हैं। 

जानते चलें कि कल दोपहर में विपक्षी विधायक तब नाराज़ हो गए थे जब विधानसभा अध्यक्ष चरनदास महंत ने उन्हें समय का पालन करने को कहा था। उनका कहना था कि शिवरतन शर्मा आधा घंटा बोले जबकि इतना समय 5 विधायकों के लिए तय था। अगर एक सदस्य आधा घंटा तक बोलेंग तो सदन कैसे चलेगा। इसके बाद भाजपा विधायकों ने बहिष्कार कर दिया जोकि अभी भी जारी है।