breaking news New

गायता जोहरनी कार्यक्रम समाज प्रमुखों की उपस्थिति में सम्पन्न

गायता जोहरनी कार्यक्रम समाज प्रमुखों की उपस्थिति में सम्पन्न


भानुप्रतापपुर। गोंडवाना समाज समन्वय समिति ब्लाक भानुप्रतापपुर में सामुहिक रूप से गायता जोहरनी का नेंग शनिवार को भव्य कार्यक्रम गोंडवाना भवन भानुप्रतापपुर में गोंडवाना समाज जिला अध्यक्ष मानक दरपट्टी  एवं गोड़वाना समाज समन्वय समिति ब्लाक अध्यक्ष हरिचंद कावड़े, जनपद अध्यक्ष बृजबति मरकाम, उपाध्यक्ष सुनाराम तेता सहित समाज प्रमुखों के संग संपन्न हुआ।

कार्यक्रम्र को संबोधित करते हुए मानक दरपट्टी ने कहा की क्षेत्र के गायता, परगन मांझी, पेन पुजारी, सामाजिक पदाधिकारीयों का स्वागत ल्रया-लयोरों द्वारा शानदार रेलापाटा नृत्य के साथ किया गया। कार्यक्रम की शुरुआत पारम्परिक प्रथा अनुसार बुड़हाल पेन की सेवा-अरजी कर किया गया। उसके बाद नार्र गायता, पेन पुजारी, परगन मांझी, नार्र पटेल तथा सामाजिक पदाधिकारियों को नये धान से बने चावल का टीका लगाकर, पवित्र इरूम पुंगार की माला पहनाकर एवं सफेद पटका से पगड़ी पहनाकर जोहार भेंट किया गया ।

जनपद उपाध्यक्ष बसुनाराम तेता ने  कहा कि हर हाल में अपनी रीति नीति संस्कृति को जीवित रखना है और इसकी सबसे ज्यादा जिम्मेदारी महिलाओं की है। व्यवस्था में 12 बानी बिरादरी का हक, प्रमुख कार्य की जानकारी देते हुए बताया गया कि कोयतोरिन व्यवस्था में राऊत, कुम्हार, घड़वा, लोहार, ओझा, तेली, कलार, गांडा, पनका, पारदी, पनारा और गोंड का अलग-अलग अधिकार और कर्तव्य है। पेन सेवा पद्धति और गायता जोहरनी क्या है इस पर बताया गया।

हरिचंद कावड़े के द्वारा उपस्थित सगाजनों को गायता जोहरनी का बधाई देते हुए सभी के सुख समृद्धि की कामना करते हुए भविष्य में भी अपनी सांस्कृतिक विरासत को बनाये रखने को कहा।

जनपद अध्यक्ष बृजबति मरकाम के द्वारा आसुलखार में गोड़वाना भवन के लिए आहता निर्माण एवं देवगुड़ी कार्य की घोषणा किया गया।

इस अवसर पर राधेलाल मंडावी, आसुलखार सरपंच देवराज उयके, सोनेकन्हार सरपंच सुलोचना हिड़ामी, फरसकोट सरपंच सुशील कोमरा, केवटी सरपंच सुरजोबाई दुग्गा, परवी सरपंच लिलेशवरी दुग्गा, पेवारी सरपंच जयबती मंडावी, रविशंकर मंडावी, बृजलाल उयके,अमर नुरेटी, गोकुल नेताम अशोक हिड़ामी ,कपूर दुग्गा,नरेशदेव नरेटी,मानसाय दर्रो, राधेलाल नुरेटी,अमर कचलाम,तीजउ हिड़को,रिखीराम मंडावी, नागेश कोमरा, पतिराम कुमेटी, श्रवण उयके किशोर मंडावी, ग़ौरव तेता, राजेंद्र उसेंडी, रवि उयके, हेमलाल उयके, अलिराम मंडावी,  खिलेश कावड़े, शैलेन्द्र विश्वकर्मा, बड़ी संख्या में गोंड समाज के महिला एवं पुरूष युवा युवतियों उपस्थित थे ।