breaking news New

एडसमेटा मुठभेड़ में मारे गये परिजनों को 01 करोड़ के मुआवजे की मांग

 एडसमेटा मुठभेड़ में मारे गये परिजनों को 01 करोड़ के मुआवजे की मांग

सीएम भूपेश बघेल यूपी में मारे गये किसानों को मुआवजा दे रहे हैं, लेकिन  एड़समेटा जैसी घटना हो जाती है और इस घटना के बाद न्यायिक जांच रिपोर्ट में साबित होता है कि मारे गये लोग निर्दोष थे,

बीजापुर । जिले के एडसमेटा मुठभेड़ की न्यायिक जांच रिपोर्ट पर फैसला आ चुका है। इस फैसले के बाद सारकेगुड़ा, सिलगेर और बस्तर में हो रहे नरसंहार के विरोध में बड़ी संख्या में ग्रामीण एड़समेटा में मुठभेड़ में मारे गये लोगों के नक्सलियों के तर्ज पर स्मारक बनाकर दो दिवसीय जनसभा धरना प्रदर्शन कर रहे हैं। एड़समेटा में कल से शुरू हुई जनसभा धरना प्रदर्शन आज भी जारी रहा। आदिवासियों की मांग है कि दोषियों पर कार्रवाई करते हुए मारे गये आदिवासियों के परिजनों को 01 करोड़ और घायलों को 50-50 लाख का मुआवजा दिया जाए।

प्राप्त जानकारी के अनुसार मूलवासी बचाओ मंच के बैनर तले 03 जिले सुकमा, बीजापुर और दंतेवाड़ा के हजारो ग्रामीण जुटे। जेल बंदी रिहाई समिति ने भी मूल निवासी बचाओ मंच को अपना समर्थन दिया है। बीजापुर के एडसमेटा में 17 मई 2013 को जवानों की गोलीबारी में 08 ग्रामीण मारे गए थे। न्यायिक जांच रिपोर्ट के अनुसार पूरे मुठभेड़ को फर्जी बताया गया है।

सामाजिक कार्यकर्ता सोनी सोरी ने बताया कि सीएम भूपेश बघेल यूपी में मारे गये किसानों को मुआवजा दे रहे हैं, लेकिन उनके प्रदेश में ही एड़समेटा जैसी घटना हो जाती है और इस घटना के बाद न्यायिक जांच रिपोर्ट में साबित होता है कि मारे गये लोग निर्दोष थे, उन्हें कोई इंसाफ नहीं मिलता है। ऐसे में एड़समेटा के पीडि़त अब मुआवजे की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं।