breaking news New

केंद्र सरकार द्वारा कोरोना काल में खाद की कीमतों में वृद्धि करना किसान विरोधी चेहरा - राईस किंग खूंटे

केंद्र सरकार द्वारा कोरोना काल में खाद की कीमतों में वृद्धि करना किसान विरोधी चेहरा - राईस किंग खूंटे

डभरा, 13 मई।  वरिष्ठ कांग्रेसी नेता प्रदेश सचिव अजा विभाग छग श्री राईस किंग खूंटे ने कहा कि रबी फसल 2020-21 में डीएपी खाद 1200 रुपए प्रति बोरी उपलब्ध कराया गया था,पर खरीफ सीजन में इसका दाम बढ़ाकर 1900 रुपए प्रति बोरी कर दिया गया।

पिछले एक साल से आम जनता और किसान कोरोना से परेशान हैं,ऐसी स्थिति में डीएपी सहित अन्य रासायनिक उर्वरकों की कीमत बढ़ाने से किसानों व आमजनों को दोहरी मार पड़ेगी और उनके लिए खरीफ फसलों का खाद खरीदना मुश्किल होगा।

प्रदेश सचिव राईस किंग खूंटे ने आगे कहा कि डीएपी खाद के मुल्य में 58 प्रतिशत का अचानक वृद्धि करने से किसान हैरान व परेशान हैं कि अब उन्हें 1900 रुपए में प्रति बोरी खरीदना पड़ेगा।

खूंटे  ने कहा कि 2020 खरीफ सीजन में डीएपी खाद 1150 रुपए तथा रबी सीजन 2020-21 में 1200 रुपए प्रति बोरी कीमत था। इसी तरह रासायनिक खाद एनपी के दामों में 565 रुपए प्रति बोरी वृद्धि की गई है,अब यह खाद किसानों को 1185 रुपए की जगह 1747 रुपए प्रति बोरी खरीदना पड़ेगा। सिंगल सुपर फास्फेट के सभी प्रकार के खादों में लगभग 36 रुपए प्रति बोरी बढ़ाया गया है,इसी प्रकार रासायनिक खाद एमओपी के दाम भी 150 रुपए प्रति बोरी बढ़ाकर 850 रुपए से 1000 रुपए प्रति बोरी कर दिया गया है।

प्रदेश सचिव राईस किंग खूंटे ने केंद्र के मोदी सरकार से आग्रह किया है कि इस विपरीत परिस्थिति कोरोना काल में किसान सहित आम जनता जीवन-मृत्यु के बीच जद्दोजहद कर रहे हैं जिसको देखते हुए रासायनिक उर्वरकों-खाद के कीमतों में वृद्धि को तत्काल वापस लें।