breaking news New

शासकीय स्कूल ने विज्ञान के क्षेत्र जिला का नाम किया रौशन, 4 स्टूडेंट का हुआ प्रदेश स्तर में चयन, जिले में हर्ष का माहौल

शासकीय स्कूल ने विज्ञान के क्षेत्र जिला का नाम किया रौशन, 4 स्टूडेंट का हुआ प्रदेश स्तर में चयन, जिले में हर्ष का माहौल

सुरजपुर, 24 दिसम्बर। जिले के एक शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय के चार छात्रों का चयन राष्ट्रीय विज्ञान प्रतियोगिता में प्रदेश से स्तर पर हुआ है। जिससे जिले में हर्ष का माहौल निर्मित है। 

गौरतलब है कि 28 वीं जिला स्तरीय बाल विज्ञान कांग्रेस 2020-21 का आयोजन 21 दिसम्बर को शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय सूरजपुर में कोविड 19 को ध्यान में रखते हुए ऑनलाइन वीडियो के माध्यम से निर्णायक मंडल के समक्ष कराया गया। जिसमें जिले के समस्त स्कूलों ने भाग लिया। इस प्रतियोगिता में बेहतर प्रदर्शन  शा.बालक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामानुजनगर के छात्रों ने किया। शिक्षक व छात्रों के कड़ी मेहनत रंग लाई है। शिक्षक गोपाल सिंह के मार्गदशन में पीयूष दुबे कक्षा 11 वीं के स्टूडेंट, दीपक कुमार यादव कक्षा 11 वीं, मोहहमद आयान कक्षा 8 वीं, आयुष साहू कक्षा 8 वीं का चयन बाल विज्ञान काँग्रेस में प्रदेश स्तर पर चयन हुआ है। 

ज्ञात हो कि आयोजन राष्ट्रीय विज्ञान एवं प्रौधोगिकी विभाग ,भारत सरकार के तत्वाधान में हरेक वर्ष सम्पन्न कराया जाता है। हरेक वर्ष एक मुख्य विषय और पांच उप विषय को लेकर प्रतियोगिता कराई जाती है। जिसमें हरेक वर्ष पांच छात्रों (तीन सीनियर और दो जूनियर)का चयन जिला स्तर से राज्य स्तर के लिए और फिर राज्य स्तर से राष्ट्रीय स्तर पर होता है। 

इस वर्ष मुख्य विषय के रूप में "सतत जीवन हेतु विज्ञान" इसके साथ ही  इस मुख्य विषय के पांच उप विषय है। "पहला सतत जीवन हेतु पारितंत्र," दूसरा सतत जीवन हेतु प्रौधोगिकी" तीसरा सतत जीवन हेतु सामाजिक नवाचार, चौथा सतत जीवन हेतु निरूपण, विकास, मॉडलिंग, एवं योजना बनाना" और पांचवा सतत जीवन हेतु पारम्परिक ज्ञान प्रणाली" पर छात्रों को परियोजना (प्रोजेक्ट) बनाने को कहा गया था। 

जिसमें पूरे जिले के स्कूलों को शामिल किया गया था। जिसमे शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामानुजनगर के चार छात्रों पीयूष दुबे ,दीपक कुमार यादव,(सीनियर वर्ग), आयुष साहू और मोहम्मद अयान(जूनियर वर्ग) के परियोजनाओं का राज्य स्तर के लिए चयन किया गया। पहली बार किसी विद्यालय का इस विधा में किसी विकाशखण्ड से इतने प्रतिभागियों का चयन जिला से राज्य स्तर के लिए हुआ है। जो कि जिले के लिए गौरव की बात है। 

आप को बता दें की, बाल विज्ञान कांग्रेस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य बच्चों में वैज्ञानिक चेतना, खोज करने की प्रवित्ति और उन्हें स्थानीय परिवेश में तार्किक विज्ञान की दिशा में बढ़ाने का है। यह कार्यक्रम 1993 से विगत 27 वर्षों से चलते हुए प्रभावी कार्यक्रम के रूप में  बच्चों के बीच पहचान बना चुकी है। 

इस कार्यक्रम में सीनियर वर्ग में 10-17 वर्ष और जूनियर वर्ग में 10 -14 वर्ष के छात्रों को लिया जाता है। पिछले वर्ष शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय रामानुजनगर के ही एक होनहार छात्र दीपक कुमार यादव का इसी विधा में राष्ट्रीय स्तर पर प्रथम स्थान प्राप्त हुआ था। 

इन सभी परियोजनाओं को बनवाने में सहयोग करने वाले गाइड टीचर गोपाल सिंह ने चर्चा करते हुए कहा कि हमारे विद्यालय के प्रचार्य  पीसी सोनी और विज्ञान के व्याख्याता विद्या जायसवाल, नीलिमा बड़ा, दीलिप कुमार शर्मा और सुनील कुमार गुप्ता का विज्ञान के किसी भी कार्यक्रम में भरपूर योगदान रहता है।