breaking news New

सोनोग्राफी संचालक पड़ा भारी, घुटने टेके स्वास्थ अधिकारी

सोनोग्राफी संचालक पड़ा भारी, घुटने टेके स्वास्थ अधिकारी

स्वास्थ अधिकारियों ने जांच के नाम पर की खानापूर्ति

चांपा, 13 जनवरी। कुछ रोज पहले चांपा के तहसील रोड में टेंट के साए मे संचालित हो रही सोनोग्राफी सेंटर में फैली अव्यवस्था को लेकर पेपर में प्रकाशन किया गया  जिस पर जांजगीर-चांपा जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ अधिकारी द्वारा जांच दल का गठन किया गया था और संबंधित जांच दल ने खानापूर्ति जांच करके ओके टाटा बाय बाय कह कर निकल गए क्योंकि संबंधित सोनोग्राफी सेंटर जांच के उपरांत भी अभी तक टेंट पंडाल पर चल रहा है। स्वास्थ विभाग की कार्यवाही नहीं होने पर संचालक हौसला बुलंद कर आज भी टेंट टप्पर के नीचे अव्यवस्था के आलम पर सोनोग्राफी सेंटर संचालित कर रहा है जांजगीर चांपा जिला उप मुख्यालय चांपा के तहसील पहुंच मार्ग में डॉ मुकेश सिंह सोनोग्राफी सेंटर का संचालन किया जा रहा है कहने को इस महत्वपूर्ण जांच केंद्र में सुव्यवस्था के नाम से दूर दूर तक कोई लेना देना नहीं है क्योंकि दूरदराज से आए मरीजों को अव्यवस्था मैं झोंक कर सेंटर के संचालक द्वारा टेंट के साए में सोनोग्राफी केंद्र का संचालन किया जा रहा है।


समूचा केंद्र अव्यवस्था में संचालित हो रहा है इस संदर्भ में समाचार के सुर्खियों में आने के बाद मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी जांजगीर के द्वारा जांच दल का गठन कर सोनोग्राफी सेंटर में भेजा गया था और जांच अधिकारी केंद्र में पहुंचकर खानापूर्ति जांच पड़ताल कर यहां से चलते बने जांच दल के सदस्यों ने यहां उपस्थित मरीज तथा उनके परिजनों से किसी भी प्रकार का बयान तथा भौतिक सत्यापन किए बिना ही यहां से निकल लिए। 

 ऐसा लगता है मानो जांच दल ने अंतरराष्ट्रीय नियमों के तहत गाइडलाइनो का पालन करते हुए जांच पड़ताल किया गया हो इस संदर्भ में जब मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को जांच रिपोर्ट के संदर्भ में पूछा गया तो उन्होंने सरपट जवाब देते हुए बताया कि जांच दल के द्वारा अभी तक रिपोर्ट नहीं सौंपा गया है इसलिए जांच दल को सोनोग्राफी सेंटर में क्या कमी बेशी मिली इसकी जानकारी नहीं बताई गई यहां पर स्पष्ट कर दें कि सोनोग्राफी केंद्र में पहुंचे जांच दल को सप्ताह भर से अधिक का समय हो चुका है। इसी से समझा जा सकता है कि जांच दल ने अभी तक चिकित्सा अधिकारी को जांच रिपोर्ट नहीं सौंपी है इससे क्या अंदाजा लगाया जा सकता है हमारे सुधि पाठक आसानी से समझ सकते हैं।