breaking news New

महादेवा में सावन के सोमवार में उमड़ा आस्था का सैलाब

महादेवा में सावन के सोमवार में उमड़ा आस्था का सैलाब

बाराबंकी । सावन के सोमवार पर जलाभिषेक करने लोधेश्वर महादेवा धाम आये दो श्रद्धालुओं की पुलिस के डर से महादेवा स्थित सरोवर में डूबकर मौत हो गई।पुलिस ने स्थानीय गोताखोरों की मदद से दोनों डूबे युवकों के शवों को बाहर निकलवाकर पंचनामा भरा और पोस्टमार्टम कराया है। रामनगर संवादसूत्र के अनुसार सीतापुर जिले के महमूदाबाद थानाक्षेत्र ग्राम खेवन निवासी शीतल राम का 21 वर्षीय बेटा बीती रविवार की शाम अपनी मोटरसाइकिल रामनगर के महादेवा धाम में स्थित शिवलिंग पर जलाभिषेक करने के लिये आया था और रात में करीब 1 बजे वह उसी परिसर में स्थित सरोवर में स्नान करने के लिये सरोवर के किनारे खड़ा हुआ था इस बीच वहां पर सुरक्षा के लिये तैनात पुलिस ने युवक को खदेड़ा जिससे वह उसी सरोवर में गिर गया काफी देर तक उसके बाहर न निकलने पर उसके साथ मे महादेवा गए साथी को शक हुआ तो वहां पर खड़ा रहा सोमवार की सुबह में दूसरा युवक भी नहाने के लिये उसी में गया इस दौरान वो भी डूब गया जिसकी तलाश के लिये पुलिस ने स्थानीय गोताखोरों को लगाया और गोताखोर उसके शव की तलाश में जुटे थे कि देर रात में डूबे युवक विशाल का शव सरोवर के जल में उतराता हुआ उसी स्थान पर दिखाई दिया जिसके बाद हड़कंप मच गया।वहीं तब तक डूबे दूसरे युवक जिले के ही फतेहपुर थानाक्षेत्र के ग्राम गौरा बनियानी निवासी 30 वर्षीय जितेंद्र कुमार पुत्र हरिशंकर स्नान करते समय सरोवर में डूब गया था उसके शव को गोताखोरों की मदद से पुलिस ने बरामद करके पोस्टमार्टम कराया है।वहीं पोस्टमार्टम गृह में मौजूद दोनों युवकों के डूबने के बाद परिवार वालों का रो रोकर बुराहाल है।वहीं एक के परिवार वाले का तो यह तक कहना है कि आये थे भगवान भोलेनाथ का जलाभिषेक करने आये थे और मनोकामना पूरी करने के लिये भगवान भोलेनाथ के शिवलिंग पर जलाभिषेक करना था लेकिन तब तक भोलेनाथ ने उन लोगों को अपने पास बुला लिया।

 यदि सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम होता तो शायद उन श्रद्धालुओं को बचाया जा सकता था जो अव्यवस्था की भेंट चढ़ गए और असमय काल के गाल में समा गए । यही नहीं इनमें से तो एक के घर का चिराग ही बुझ गया क्योंकि वह अपने मां-बाप का इकलौता बेटा था । जी हा हम बात कर रहे है जनपद के प्रसिद्ध महादेवा धाम की तो यहा हर वर्ष सावन माह के प्रत्येक सोमवार को भारी संख्या मे जलाभिषेक के लिये श्रद्धालुओ की भीङ जुटती है जिसके मद्देनजर सुरक्षा के साथ साथ साफ सफाई भी करायी जाती है । इसी के दृष्टिगत हाल ही मे जिलाधिकारी ङा आदर्श सिंह ने बैठक कर स्थानीय प्रशासन को आवश्यक निर्देश भी दिये थे बावजूद इसके प्रशासन ने गंभीरता से नही लिया जिसके चलते यह बङा हादसा हो गया । लोगो का कहना था कि यदि प्रशासन गंभीर होता तो हादसा रोका जा सकता था क्योकि न तो सरोवर के आसपास कोई बैरीकेटिंग करायी गयी थी और न गहराई मे जाने से रोक के ही उपाय किये गये । हद तो तब हो गयी जब सुरक्षा मे लगे पुलिस कर्मी भी मौदूद नही थे जिनकी मदद ली जा सके । इतना ही नही प्रत्यक्ष दर्शियो का तो यहा तक कहना था कि हादसे के बाद साथ गये लोग पुलिस से गुहार लगाते रहे लेकिन पुलिस ने उनकी भी नही सुनी जिससे भी काफी वक्त गुजर गया । यदि समय रहते ही निकाल लिया गया होता तो दोनो की जान बचायी जा सकती थी

ढांढ़स बांधने पहुचे पूर्व कैबिनेट मंत्री

महादेवा स्थित सरोवर में डूबे युवक जितेंद्र के परिवार को ढांढ़स बांधने पहुचे पूर्व कैबिनेट मंत्री सपा के पूर्व प्रदेश महासचिव अरविंद कुमार सिंह गोप  ने कहा कि आपके परिवार के साथ हमारी संवेदना है और जब भी आपके परिवार को कोई आवश्यकता होगी सपा आपके साथ खड़ी रहेगी।