breaking news New

ग्रामीणों के सशक्तीकरण में मील का पत्थर साबित होने लगा है सीएससी का बैंकिंग मॉडल

ग्रामीणों के सशक्तीकरण में मील का पत्थर साबित होने लगा है सीएससी का बैंकिंग मॉडल

रायपुर ।  देश की आजादी की 75 वीं वर्षगांठ के शुभ अवसर पर देश भर में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में आज सीएससी ई-गवर्नेेंस सर्विस इंडिया लिमिटेड द्वारा न्यू सर्किट हाउस के सभा गृह में राज्य स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  संजय शुक्ला, प्रबंध संचालक, छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ ने अपने उद्बोधन में बताया कि राज्य अंतर्गत लगभग 1000 करोड़ की राशि तेंदुपत्ता संग्राहकों को उनके भुगतान की राशि सीधे उनके बैंक खाते में दी जा रही है। इसके साथ साथ मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल की मंशा अनुसार लगभग 10000 करोड़ की राशि ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिकों को प्रदाय की जाती है। सीएससी ई-गवर्नेेंस सर्विस इंडिया लिमिटेड द्वारा प्रदेश के गाँव-गाँव मे संचालित बैंक मित्रों के माध्यम से सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग कर ग्रामीण नागरिकों को उनके घर पर ही नगद भुगतान प्राप्त हो रहा है।

-गवर्नेेंस सर्विस इंडिया लिमिटेड द्वारा न्यू सर्किट हाउस के सभा गृह में राज्य स्तरीय कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  संजय शुक्ला, प्रबंध संचालक, छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ ने अपने उद्बोधन में बताया कि राज्य अंतर्गत लगभग 1000 करोड़ की राशि तेंदुपत्ता संग्राहकों को उनके भुगतान की राशि सीधे उनके बैंक खाते में दी जा रही है।

इसके साथ साथ मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल की मंशा अनुसार लगभग 10000 करोड़ की राशि ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिकों को प्रदाय की जाती है। सीएससी ई-गवर्नेेंस सर्विस इंडिया लिमिटेड द्वारा प्रदेश के गाँव-गाँव मे संचालित बैंक मित्रों के माध्यम से सूचना प्रौद्योगिकी का उपयोग कर ग्रामीण नागरिकों को उनके घर पर ही नगद भुगतान प्राप्त हो रहा है।

कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि  के सी देवसेनापति निदेशक, जनगणना कार्य निदेशालय ने बताया कि सीएससी से ग्रामीणों के सशक्तिकरण की अपार संभावनाए है, और छत्तीसगढ़ के सीएससी पूरे देश में सेवा प्रदायगी में सर्वश्रेष्ठ साबित होंगे। कार्यक्रम में  अमिताभ शर्मा मुख्य कार्यकारी अधिकारी, चिप्स ने बताया कि भारत नेट परियोजना के माध्यम से राज्य की सभी ग्राम पंचायतों में इंटरनेट की व्यवस्था प्रदाय की जा रही है।

विशिष्ट अतिथि  वीकेश अग्रवाल ने बताया कि राज्य अंतर्गत संचालित महिला स्वसहायता समूहों की महिलाओं को बैंक सखी बनाया जाकर ग्रामीण नागरिकों को उनके बैंक खाते से घर पहुच नगद भुगतान किया जा रहा है। ऐसे बहुत से क्षेत जहा एटीएम की सुविधा नहीं है उनके लिए यह व्यवस्था वरदान साबित हो रही है।

सीएससी ई-गवर्नेेंस सर्विस इंडिया लिमिटेड के राज्य प्रमुख  मदन मोहन राऊत ने बताया कि सीएससी के माध्यम से राज्य में 1 करोड़ से अधिक लोगों का आयुष्मान कार्ड बनाया जा चुका है, इसके साथ साथ 42 लाख श्रमिकों का ई श्रम कार्ड बनाया गया है। भविष्य में भी ग्रामीण क्षेत्र के नागरिकों के सशक्तिकरण के लिए सीएससी के माध्यम से निरंतर प्रयास किए जाएंगे। राज्य के लगभग सभी जिलों से आए सीएससी संचालकों को उनके उत्कृष्ठ कार्य के लिए प्रशस्ति पत्र और मेडल देकर मुख्य अतिथि एवं समस्त विशिष्ठ अतिथियों द्वारा सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर  बी आनंद बाबू, अपर प्रबंध संचालक, छत्तीसगढ़ राज्य लघु वनोपज संघ,  विवेक सिंह, संयुक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी, चिप्स,  नीलेश कुमार सोनी, संयुक्त मुख्य कार्यपालन अधिकारी, चिप्स, सीएससी  जय नारायण पटेल,  परितोष डोनगाँवकर,  शशांक सिंह एवं सीएससी के राज्य कार्यालय के अधिकारी, जिलों से आए जिला प्रबंधक एवं सीएससी उद्यमी उपस्थित थे।