breaking news New

Breaking कोरोना के बावजूद 2021 को विदाई देने और नव वर्ष के स्वागत के लिये भारत समेत दुनियाभर में जगह-जगह जश्न शुरू

Breaking कोरोना  के बावजूद 2021 को विदाई देने और नव वर्ष के स्वागत के लिये भारत समेत  दुनियाभर में जगह-जगह जश्न शुरू

नयी दिल्ली . अलविदा 2021! स्वागत है 2022। अतीत के गर्भ में समा रहे वर्ष 2021 को विदाई देने और नव वर्ष के स्वागत के लिये भारत सहित दुनियाभर में जगह-जगह जश्न शुरू है। कोविड-19 के नये वैरिएंट ओमिक्रॉन के खलनायक के रूप में उभरने और उसके खिलाफ सरकारों द्वारा उठाये गये एहतियाती कदमों के बावजूद नये वर्ष की पूर्व संध्या पर ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण पूर्वी एशिया भारत और अन्य देशों में कई जगहोें पर लोगों का उत्साह जोरों पर दिखा।

भारत में खासकर उत्तर-पश्चिमी हिस्से में कड़ाके की शीतलहर के बीच देशभर के सैलानी हिमाचल में शिमला, कुफरी और मनाली जैसे हिल स्टेशनों पर पहुंचे हैं। उत्तराखंड में अल्मोरा, रानीखेत, मसूरी तथा अन्य जगहों पर भी सैलानियों की भीड़ देखी जा रही है।

मुंबई के कांदीवली से नव वर्ष पर हिमाचल में बर्फबारी देखने मनाली पहुंचे फार्मा के छात्र निशांत सिंह ने यूनिवार्ता कहा, “ मनाली में ठंड के बावजूद काफी संख्या में पर्यटक नव वर्ष का जश्न मनाने इकट्ठे हुए हैं। मॉल रोड पर पुलिस का बंदोबस्त कड़ा है। हम यहां नये वर्ष की पूर्व संध्या के कार्यक्रम के लिये सजे मंच पर कार्यक्रम का इंतजार कर रहे हैं।”

भारत से पहले ऑस्ट्रेलिया, जापान और साउथ कोरिया सहित अन्य देशों में नये साल का आगाज हो जाता है। भारतीय समयानुसार करीब शाम साढ़े चार बजे न्यूजीलैंड में नए साल की शुरुआत हो गई। न्यूजीलैंड के ऑकलैंड में लोगों ने नये साल का स्वागत आतिशबाजी के साथ किया। ऑकलैंड में स्थानीय समयानुसार आधी रात बीत चुकी है और लोग नये साल के जश्न में डूबे हुए हैं।

भारत में भी कुछ घंटे बाद नये साल का आगाज हो जायेगा। देश और दुनिया में ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरे को देखते हुए सरकार ने काफी पाबंदिया लगाई है लेकिन इसके बावजूद लोग इन नियमों का उल्लघंन कर विभिन्न जगहों पर नजर आ रहे हैं।

राजधानी दिल्ली में सरकार ने ओमिक्रॉन के खतरे को लेकर मुख्य वाणिज्यिक केंद्र कनॉट प्लेस में जश्न को लेकर मनाये जाने वाले सभी तरह की समारोह पर रोक लगा दी गई है क्योंकि दिल्ली में ओमिक्रॉन के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। यहां ओमिक्रॉन के 320 मामले सामने आ चुके हैं।