breaking news New

पाक पर जीत की 50वीं वर्षगांठ पर रायपुर में विजय मशाल के पहुँचने पर विधायक विकास उपाध्याय ने भारत माँ की जयकारे लगाए

पाक पर जीत की 50वीं वर्षगांठ पर रायपुर में विजय मशाल के पहुँचने पर विधायक विकास उपाध्याय ने  भारत माँ की जयकारे लगाए

रायपुर। भारत-पाकिस्तान के युद्ध में भारत के स्वर्णिम विजय की 50वीं वर्षगांठ को यादगार बनाने के लिए शुरू की गई विजय मशाल यात्रा देश के मध्य में बसे छत्तीसगढ़ पहुँची। संसदीय सचिव एवं विधायक विकास उपाध्याय ने आज सेना के लोगों के साथ छत्तीसगढ़ से उस युद्ध में सम्मिलित पाँच कर्नल में से पश्चिम विधानसभा में निवासरत् तीन कर्नलों के घरों में सेना के साथ जाकर उनका स्वागत किया। 

विकास उपाध्याय ने इस मौके पर कहा कि हेड क्वार्टर छत्तीसगढ़ एवं उड़ीसा सब एरिया के सैनिकों ने 1971 में हुए उस युद्ध की याद ताजा कर दी, जिसमें मेरे पश्चिम विधानसभा के जाबाज़ सैनिकों ने हिस्सा लिया था। ये मेरे लिए सौभाग्य की बात है।

वर्ष 1971 में भारत-पाकिस्तान के युद्ध में सम्मिलित छत्तीसगढ़ के 50 सैनिकों के घरों में उस युद्ध के 50वीं वर्षगांठ को यादगार बनाने पूरे देश भर में विजय मशाल यात्रा निकाली गई है। इसी यात्रा के साथ हेड क्वार्टर छत्तीसगढ़ एवं उड़ीसा सब एरिया के रायपुर डिविजन के सैनिक छावनी के सौजन्य पर रायपुर में कुल 05 सैनिकों के घरों में मशाल लेकर उन्हें सम्मानित किया गया। सौभाग्य से उन 05 में से 03 सैनिक पश्चिम विधानसभा में निवासरत् हैं। जिसमें कर्नल आर.पी. पाण्डे समता कॉलोनी, कर्नल व्ही.के. मिश्रा चौबे कॉलोनी एवं कर्नल व्ही.एस. तामस्कर रोहिणीपुरम् जहाँ सैनिकों की मशाल यात्रा उनके घरों में आज पहुँची। इस मौके पर क्षेत्रीय विधायक विकास उपाध्याय विशेष रूप से उपस्थित होकर मशाल यात्रा का स्वागत कर उन सैनिकों से मुलाकात की जो 1971 के उस ऐतिहासिक युद्ध में सम्मिलित हुए थे। इनके अलावा रायपुर से ही कर्नल अरूण कुमार दुबे एवं विंग कमाण्डर महावीर ओझा भी सम्मिलित थे, जहाँ मशाल यात्रा पहुँची।

विकास उपाध्याय इस मौके पर भारत माता की जयकारों के साथ पूरे राष्ट्रभक्ति से ओत-प्रोत होकर इस विजय मशाल यात्रा में सम्मिलित होकर उनका स्वागत किया। उन्होंने कहा कि निश्चित तौर पर यह यात्रा भारत की स्वर्णिम विजय की 50वीं वर्षगांठ को यादगार बनाये रखेगी। भारत के मध्य में बसे छत्तीसगढ़ में आज इस विजय मशाल यात्रा का आगाज़ निश्चित रूप से छत्तीसगढ़ के लोगों को देशभक्ति से लबालब उन पलों को याद दिला रही है, जब भारत ने पाकिस्तान के साथ युद्ध कर उसे परास्त कर दिया था। यह हमारा सौभाग्य है कि उस युद्ध में मेरे पश्चिम विधानसभा से 03 कर्नल सम्मिलित हुए थे, जिन्हें आज हम प्रत्यक्ष रूप से देख पा रहे हैं। विकास उपाध्याय इस दौरान तीनों कर्नल से उनके निवास पर मशाल यात्रा के साथ व्यक्तिगत तौर पर मुलाकात कर उन्हें सैल्युट करते हुए स्वागत कर कहा, आपके रहने मात्र से ही देशभक्ति का एहसास पश्चिम विधानसभा ही नहीं बल्कि पूरे छत्तीसगढ़ को हो रहा है। उन्होंने विजय मशाल यात्रा के छत्तीसगढ़ के सूत्रधार हेड क्वार्टर छत्तीसगढ़ एवं उड़ीसा सब एरिया के सैनिकों को बधाई दी।