breaking news New

रंगकर्मी अजय आठले को रंगमंच कलाकर एवं गणमान्य नागरिकों ने दी अपनी भावपूर्ण श्रद्धांजलि

रंगकर्मी अजय आठले को रंगमंच कलाकर एवं गणमान्य नागरिकों ने दी अपनी भावपूर्ण श्रद्धांजलि


रायगढ़, 27 जनवरी। प्रसिद्ध रंगमंच निर्देशक दिवंगत अजय आठले को बुधवार की सुबह होटल साई श्रद्धा में रायगढ़ के रंगमंच कलाकर एवं दर्शकों ने अपने श्रद्धा सुमन अर्पित किये। अजय आठले पिछले 40 वर्षो से रायगढ़ में रंगकर्म को पूरी ऊर्जा से संचालित कर रहे थे। पिछले वर्ष कोरोना की चपेट में आने से 27 सितंबर को उनका निधन हो गया था। यह पहला मौका था जब कोरोना के बाद उनके लिए श्रद्धांजलि सभा का आयोजन हुआ था। सभा में रंगमंच के कलाकारों ने तो अजय आठले के योगदान को याद किया ही इसके अलावा दर्शको ने भी उनके काम की बेहद तारीफ की एवं उनके जैसे जिंदादिल इंसान के असमय चले जाने पर दुख प्रकट किया।

रायपुर इप्टा के मिन्हाज असद ने अजय आठले के साथ बिताई हुई अपनी रंग यात्रा को साझा करते हुए कहा " अजय हम सबको एक ऐसे दौर में छोड़ कर गए है जिसमे हमें उनकी सबसे ज्यादा जरूरत है, ये अंधकार का दौर है, जहां हर तरफ अन्याय और अत्याचार दिखता है और अजय अपने रंगमंच के माध्यम से हमेशा शोषण और शोषितों के खिलाफ आवाज़ बुलंद करते थे। 

विवेकानंद स्कूल के प्राचार्य हर्ष सिंह ने कहा "अजय हमेशा एक ऐसे शोषण मुक्त समाज का सपना देखते थे जहां सब बराबर होंगे और उनका रंगकर्म इस बात का प्रत्यक्ष उदाहरण है। अजय ने अपने जीवन में इतने दिशाहीन युवाओं को रंगमंच से जोड़कर उनके जीवन को नई दिशा दी है जो शायद किसी भी इंसान के लिए बहुत बड़ा चैलेंज है। अजय रंगमंच के अलावा भी सामाजिक मुद्दों को लेकर हमेशा निर्भीक होकर अपने विचार रखते थे।

वरिष्ठ पत्रकार सुभाष मिश्र ने कहा "अजय का जाना बेहद दुखी कर देने वाला पल था, इस बात पर अब भी विश्वास करने को दिल नहीं करता की अजय हमारे बीच नहीं है, लेकिन प्रत्यक्ष रूप से भले ही वो हमारे बीच न हो लेकिन उनकी जलाई हुई मशाल रंगमंच और उनके विचारों के माध्यम से हमेशा प्रज्वलित रहेगी और ये अजय की ही मेहनत है कि आज इप्टा रायगढ़ रंगमंच के अलावा भी हर क्षेत्र में उतनी ही ऊर्जा से सक्रिय है चाहे वो फिल्में बनाना हो, या यूट्यूब पर चैनल बनाकर अलग अलग विषयों पर सामाजिक सरोकार के मुद्दों पर चर्चा करना हो।


भारतीय जनता पार्टी के आलोक सिंह ने कहा "मैं वैचारिक रूप से उनसे कभी सहमत नही हुआ, अक्सर उनके और मेरे बीच विषयो पर बहस होती थी लेकिन एक अच्छे इंसान के रूप में भाऊ मेरे दिल के बेहद करीब है और हमेशा रहेंगे, भाऊ हमेशा बड़े-छोटे सबको सम्मान देते थे और विपरीत विचारधारा के लोगों से भी परस्पर संवाद बना कर रखते थे"। 

कार्यक्रम में बड़ी संख्या में छत्तीसगढ़ के रंगमंच से जुड़े लोग, रंगकर्म प्रेमी दर्शक एवं सामान्य जन उपस्थित रहे। आभार व्यक्त करते हुए इप्टा रायगढ़ के संयोजक विनोद बोहिदार ने उपस्थित सभी सुधिजनो को समय निकाल कर आने के लिए धन्यवाद दिया और ये भरोसा दिलाया की भाऊ की जलाई हुई रंगमंच और विचारों की मशाल अनवरत जलती रहेगी और उनके सपनों को इप्टा रायगढ़ के साथी पूरा करेंगे और यही सही मायने में भाऊ को सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

कार्यक्रम के अंत में अजय आठले को समर्पित इप्टा के वार्षिक नाट्य समारोह "रंग अजय" का औपचारिक उद्घाटन किया गया। रंग अजय 27 जनवरी से 31 जनवरी तक आयोजित है जिसमें अजय आठले द्वारा अभिनीत नाटक और उनके द्वारा निर्देशित फिल्मों का ऑनलाइन प्रदर्शन इप्टा रायगढ़ के यूट्यूब चैनल एवं हर्ष चैनल पर प्रतिदिन शाम 7 बजे प्रसारण किया जाएगा।