breaking news New

जल,जंगल,जमीन प्रकृति की पूजा करने वाला आदिवासी है - कवासी लखमा

जल,जंगल,जमीन प्रकृति की पूजा करने वाला आदिवासी है - कवासी लखमा

धमतरी, 25 मार्च। बड़ादेव पूजा समिति उड़ीसा द्वारा बड़ादेव लोक महोत्सव 2021का आयोजन बड़ादेव पीठ कुकरामा, लइकेरा, झारसुगुड़ा उड़ीसा में हर्षोल्लास पूर्वक संपन्न हुआ। इस अवसर पर मुख्य अतिथि  कवासी लखमा जी मंत्री उद्योग एवं वाणिज्य कर छत्तीसगढ़ द्वारा समाज को संबोधित करते हुए कहा कि आदिवासी जंगल की सुरक्षा करने वाला है। जल, जंगल, जमीन प्रकृति की पूजा करने वाला आदिवासी है। जहां-जहां आदिवासी हैं वहीं पर जंगल बचे हैं । बड़ादेव लोक महोत्सव की तारीफ करते हुए कहा कि राजनीति से परे हटकर इस तरह  महासभा द्वारा देश के किसी भी हिस्से में कार्यक्रम आयोजित करेंगे तो मैं उस कार्यक्रम में  हिस्सा लेकर समाज को संगठित करूंगा।

विशिष्ट अतिथि शिशुपाल शोरी विधायक, संसदीय सचिव, राष्ट्रीय अध्यक्ष गोंडवाना गोंड महासभा ने कहा कि विभिन्न राज्यों में  समाज के लोगों की भाषा, खानपान स्थानीय आधार पर अलग अलग हो सकता है लेकिन पूरे देश में हम सबकी संस्कृति, रीति रिवाज लगभग एक प्रकार है। उन्होंने कहा कि महासभा पूरे देश में समाज को एकता के सूत्र में जोड़ने का कार्य कर रही है। सुश्री राजकुमारी दीवान उपाध्यक्ष अनुसूचित जनजाति आयोग ने कहा कि  छत्तीसगढ़ की भांति  उड़ीसा में भी  अनुसूचित जनजाति आयोग का गठन हो  इस हेतु आयोग द्वारा  केंद्र सरकार को  अनुशंसा पत्र लिखेगी जिससे उड़ीसा में  बड़ी संख्या में निवासरत  आदिवासी  हितों की रक्षा हो सके।गोंडवाना गोंड महासभा उड़ीसा के  प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र नायक जी द्वारा स्वागत उद्बोधन प्रस्तुत करते हुए कहा कि इस पवित्र स्थल में 200 वर्षों से बड़ादेव ठाना स्थापित है। प्रतिवर्ष आज के दिन बड़ादेव लोक महोत्सव कार्यक्रम आयोजित होते आ रहे हैं।


 नितिन पोटाई सदस्य अनुसूचित जनजाति आयोग छत्तीसगढ़ ने कहा कि आयोग आदिवासियों के बेहतर हित के लिए उड़ीसा में चलाए जा रहे योजनाओं का अध्ययन कर सरकार को रिपोर्ट प्रस्तुत करेगी। महासभा की ओर से आभार व्यक्त करते हुए राष्ट्रीय सचिव आरएन ध्रुव प्रांताध्यक्ष छत्तीसगढ़ अनुसूचित जनजाति शासकीय सेवक विकास संघ ने कहा कि  समाज के प्रत्येक परिवार का डाटा कंप्यूटर में ऑनलाइन कर शत प्रतिशत महासभा से जुड़ने के कारण गोंड महासभा की ताकत उड़ीसा में मजबूत हुई है। हमें पूरे देश में सतत कार्य करते हुए महासभा के उद्देश्य एक देव , एक बाना,एक झंडा के नीचे सबको लाकर हम सबको एकजुटता का परिचय देना है। इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि के रूप में एच के सिंह उईके सचिव अनुसूचित जनजाति आयोग, दिवाकर पेंदाम राष्ट्रीय सचिव महाराष्ट्र, प्रोफेसर सूरज शाह, नंद कुमार गोंड कोलकाता पश्चिम बंगाल, रवि नारायण नायक पूर्व विधायक, राजीव पात्रा पूर्व विधायक, सुकांति बाला नायक अध्यक्ष महिला प्रभाग, दमयंती महापात्र उपाध्यक्ष महिला प्रभाग, डॉ सुरेश झाकर अध्यक्ष जी एस यू उड़ीसा के साथ बड़ी संख्या में समाजिक लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम में राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त बरगढ़ उड़ीसा का सांस्कृतिक कार्यक्रम, राष्ट्रीय  रंग तरंग केकरा खोली छत्तीसगढ़ की प्रस्तुति को लोगों ने खूब सराहा।