breaking news New

Breaking : Helicopter crash जनरल बिपिन रावत समेत हेलीकॉप्टर दुर्घटना में 13 लोगों की दु:खद मौत

 Breaking : Helicopter crash जनरल बिपिन रावत समेत हेलीकॉप्टर दुर्घटना में 13 लोगों की दु:खद मौत

नयी दिल्ली।  रक्षा प्रमुख जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और कुछ वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों को ले जा रहा वायुसेना का एक हेलीकाॅप्टर आज तमिलनाडु में नीलगिरि जिले के कुन्नूर इलाके में दुर्घटनाग्रस्त हो गया, इसमें 14 लोग सवार थे, जिसमें से एक व्यक्ति जीवित बचा है।

नीलगिरि जिले के कलेक्टर एस पी अमृत ने  बताया कि हेलीकाॅप्टर पर सवार लोगों में से सिर्फ एक व्यक्ति ही जीवित बचा है। जनरल रावत की सलामती के बारे में अभी अनिश्चितता बनी हुई है। दुर्घटनाग्रस्त हेलीकॉप्टर का मलबा पूरी तरह जलकर खाक हो गया है। श्री अमृत ने इस दुर्घटना के बारे में और कोई विवरण नहीं दिया। वह मौके पर बचाव एवं रावत अभियान की निगरानी कर रहे हैं।

इस बीच , रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इस हादसे के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात की और उन्हें घटना की जानकारी दी । इससे पहले सेना प्रमुख एम ए म नरवने ने श्री सिंह से साउथ ब्लाॅक में उनके कार्यालय में मिलकर जनरल रावत के हेलीकॉप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने का ब्योरा दिया। श्री सिंह और जनरल नरवने राजधानी में जनरल रावत के आधिकारिक आवास पर भी गये।

रक्षा मंत्री इस दुर्घटना पर संसद में गुरुवार को वक्तव्य देने वाले हैं। उन्होंने इस हादसे के बाद वरिष्ठ रक्षा अधिकारियों के साथ एक बैठक की। दुर्घटना कुन्नूर बस स्टैंड से करीब पांच किलोमीटर दूर घाटी में हुई। दुर्घटना स्थल के पर घना जंगल है और वहां पहुंचने में काफी दिक्कतें आती हैं। एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि हेलीकॉप्टर का एक ब्लेड एक पेड़ से टकरा गया, उसके बाद हेलीकाॅप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने टि्वटर पर एक संदेश में कहा कि उन्हें सीडीएस रावत के हेलीकाॅप्टर के दुर्घटनाग्रस्त होने के समाचार से आघात लगा। वह दुखी हैं। उन्होंने कहा कि वह घटनास्थल के लिए रवाना हो रहे हैं।

जनरल रावत सुबह विशेष विमान से नयी दिल्ली से सुलूर गये थे, जहां से वह पत्नी मधुलिका रावत और अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एम17वी5 हेलीकॉप्टर से वेलिंगटन जा रहे थे, जहां उन्हें सैन्य स्टॉफ कालेज में व्याख्यान देना था।

कट्टेरी निवासी एक प्रत्यक्षदर्शी ने कहा, “ मैं जोर की आवाज सुनने के बाद घर से बाहर निकला और दौड़कर देखा कि एक हेलीकॉप्टर घाटी में नीचे की ओर आ रहा है। वह एक पेड़ से टकराने के बार गिर गया। वहां बहुत तेज आग दिखाई दी जिससे वह मौके पर नहीं पहुंच सका। ”

सेना के रिकाॅर्ड के अनुसार हेलीकॉप्टर पर जनरल रावत और उनकी पत्नी के अलावा बिग्रेडियर एल एल लिड्डर, लेफ्टीनेंट कर्नल हरजिंदर सिंह, एन के गुरुसेवक सिंह, एन के जितेन्द्र कुमार, लांस नायक विवेक कुमार, लांस नायक बी साई तेजा, हवलदार सत्पाल और कुछ अन्य अधिकारी तथा चालक दल के सदस्य सवार थे।