breaking news New

दिव्य छात्रावास में बढ़ा प्यार, आज एक-दूसरे के हुए घुराई व राजेन्द्र

दिव्य छात्रावास में बढ़ा प्यार, आज एक-दूसरे के हुए घुराई व राजेन्द्र

मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना से एक-दूसरे को अपनाया मूक-बधिर जोड़ों ने
कोरबा । कोरबा जिले में आरपी नगर दशहरा मैदान निहारिका में संपन्न हुए सामूहिक विवाह में एक ऐसा भी जोड़ा दांपत्य बंधन में बंधा जिसमें दोनों मूक-बधिर हैं। बचपन से ही ये दोनों बोलने और सुनने में सक्षम नहीं हैं लेकिन इशारों ही इशारों में इनके बीच पनपा प्रेम आज सामूहिक विवाह में दाम्पत्य के अंजाम तक पहुंचा।महिला एवं बाल विकास विभाग के द्वारा आयोजित हुए सामूहिक विवाह में जिले के करतला ब्लाक के ग्राम तुर्रीकटरा की घुराई बाई राठिया और कोरबा शहर के इंदिरा नगर पुरानी बस्ती के राजेन्द्र बघेल के बीच यह प्रेम वर्षों पुराना है। दोनों की पहचान दिव्य ज्योति छात्रावास में पढऩे के दौरान हुई।

यहां से पढ़ाई खत्म होने के बाद जब अलग हुए तो मोबाइल के जरिए  संपर्क बना रहा। 9वीं तक पढ़े राजेन्द्र बघेल और स्नातक की शिक्षा प्राप्त घुराई बाई के बीच इस प्रेम की जानकारी राजेन्द्र के पिता छतराम बघेल को हुई। छतराम बघेल ने लड़की के परिजनों से बात आगे बढ़ाई। चूंकि लड़की के पिता सन्यासीराम राठिया का निधन हो चुका है इसलिए मां के ऊपर सारा दायित्व था। दो दिलों के बंधन के आगे सामाजिक वर्जनाएं भी टूटी और इन दोनों ने अंतरजातीय विवाह करने की ठानी। मुख्यमंत्री कन्या सामूहिक विवाह योजना की जानकारी होने पर संबंधित आंगनबाड़ी कार्यकर्ता की मदद से आवेदन जमा कराया और आज दोनों दांपत्य सूत्र में आबद्ध हुए। बच्चों की खुशी में अपना सुख मानते हुए परिजनों ने इन्हें भरपूर आशीर्वाद प्रदान किया। मूक-बधिर जोड़े को सरकार की प्रोत्साहन संबंधी सहायता राशि जल्द ही प्रदान की जाएगी।