breaking news New

अंतिम संस्कार की राख से बनेगी पौधों के लिए खाद

अंतिम संस्कार की राख से बनेगी पौधों के लिए खाद

भोपाल। छोला विश्राम घाट पर रामवन तैयार करने के लिए पौधारोपण का शुभारंभ शनिवार से होगा। छोला विश्राम घाट पर विश्राम घाट ट्रस्ट द्वारा रामवन की स्थापना का निर्णय लिया गया है। इसमें जापानी तकनीक मियावाकी से एक लाख वर्गफिट जगह में 35 हजार पौधे लगाए जाएंगे। खास बात यह है कि इस वन के पौधे में अंतिम संस्कार के बाद बची राख का उपयोग खाद के रूप में किया जाएगा। ट्रस्ट की ओरसे उपाध्यक्ष त्रिभुवन दास मेहता एवं बंसीलाल, उपमंत्री नेमीचंद जैन, कोषाध्यक्ष टीआर मिश्रा, कार्यकारिणी सदस्यों में ट्रस्टी हेमंत अजमेरा, मुरली हरवानी ने लोगों से सहयोग की अपील की है। दो चरणों में रोपे जाएंगे 6500 पौधे - ट्रस्ट के अध्यक्ष रमेश शर्मा ने बताया कि पौधों को रोपने का कार्य दो चरणों में होगा। पहला चरण 12-13 जून को विश्राम घाट पर आयोजित कया जा रहा है। जिसमें 6500 पौधे रोपे जाएंगे। पौधारोपण सुबह दस बजे से शाम पांच बजे तक चलेगा। इस बीच नागरिक कभी भी विश्राम घाट पहुंचकर अपने पूर्वजों की याद में या जन्मदिन, विवाह वर्षगांठ या अन्य खुशी के मौके को यादगार बना सकते हैं। इसके बाद अगले चरण में 2850 पौधे लगाने का काम होगा। जापान के अकीला मियावाकी ईजाद की गई इस तकनीक में दो फीट चौड़ी और 30 फीट पट्टी में 100 से अधिक पौधे रोपे जा सकते हैं। पौधे पास-पास लगाने से मौसम की मार का असर नहीं पड़ता है। गर्मी के दिनों में भी पौधे हरे बने रहते हैं। पौधों की बढ़त दोगुनी गति से होती है।