breaking news New

Breaking : जेल में ही रहेंगे आर्यन, चौथी बार खारिज हुई याचिका

Breaking :  जेल में ही रहेंगे आर्यन, चौथी बार खारिज हुई याचिका

मुंबई। आर्यन खान ड्रग मामले में कोर्ट ने जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। 2 अक्टूबर को आर्यन खान को ड्रग्स मामले में एनसीबी ने अरेस्ट किया था। इससे पहले 14 अक्टूबर को इस केस की सुनवाई हुई थी, तब मुंबई सेशंस कोर्ट के जज वीवी पाटिल ने सभी पक्षों को सुनने के बाद आर्यन की जमानत पर फैसला 20 अक्टूबर तक के लिए सुरक्षित रख लिया था। जिसके बाद आर्यन को 6 और दिन जेल में गुजारने पड़े। कोर्ट ने तमाम दलीलों को सुनने के बाद दोपहर करीब 2.45 बजे जज वीवी पाटिल कोर्टरूम में पहुंचे और सिर्फ दो शब्दों में ऑपरेटिव ऑर्डर सुनाया। उन्होंने कहा- बेल रिजेक्टेड। इसके साथ ही आर्यन खान, अरबाज मर्चेंट और मुनमुन धमेचा की जमानत याचिका को खारिज कर दिया है। आर्यन खान के वकीलों का कहना है कि एक बार अदालत के फैसले की कॉपी आ जाए उतो उसके बाद वह हाईकोर्ट का रुख करेंगे।  

आर्यन पर भारी पड़ीं ये दलीलें

आर्यन काफी प्रभावशाली हैं और जमानत पर रिहा होने पर सबूतों के साथ छेड़छाड़ करने या उनके देश से भागने की आशंका है। एनसीबी के वकील अद्वैत सेठना ने कहा था कि इसी तरह का मामला अभिनेता अरमान कोहली का था और उसे भी जांच पूरी होने तक जमानत नहीं दी गई थी।

आर्यन के पास से भले ही ड्रग्स नहीं मिली है, लेकिन उनके साथ गिरफ्तार हुए अरबाज मर्चेंट के पास से ड्रग्स मिली है। अगर शिप वहां से निकल जाता तो पार्टी शुरू हो जाती और ये सभी आरोपी ड्रग्स लेते।

आर्यन ने पहली बार नशीली दवाओं का सेवन नहीं किया, वो पहले भी ड्रग्स लेते रहे हैं। हमारे पास इनके पहले भी ड्रग्स लेने के पर्याप्त सबूत हैं। 

आर्यन के मामले को रिया और शौविक के ड्रग्स केस जैसा बताया गया।  एनीसीबी के वकील अनिल सिंह ने कहा कि आरोपियों के युवा होने की दलील से इनकार करता हूं। मैं आर्यन के वकील अमित देसाई के इस तर्क से सहमत नहीं हूं कि ये छोटे बच्चे हैं और इसलिए जमानत पर विचार किया जाना चाहिए। यह हमारी भावी पीढ़ी है। पूरा देश उन पर निर्भर होगा। महात्मा गांधी की भूमि में हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने इसकी कल्पना नहीं की थी।