breaking news New

विधायक प्रतिनिधि अमित राठौर द्वारा महंगाई को लेकर अपने घर के सामने धरना प्रदर्शन किया गया

विधायक प्रतिनिधि अमित राठौर द्वारा महंगाई को लेकर अपने घर के सामने धरना प्रदर्शन किया गया

सक्ती, 5 जून। केंद्र सरकार द्वारा लगातार बढ़ाई जा रही मंहगाई के विरोध में अपने निवास पर सांकेतिक धरना दिया देते हुए प्रदेश कांग्रेस कमेटी के आव्हान पर आज   शक्ति विधायक प्रतिनिधि अमित राठौर ने कहा कि  केंद्र सरकार हर मोर्चे पर असफल सिद्ध हो रही है। न तो करोना महामारी के बचाव हेतु प्रबंधन में, न तो आम जनता को मंहगाई की मार से बचा पाने में यह सफल रही । आम जन त्रस्त है ,  इसलिए केंद्र सरकार को सत्ता में बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नही रह गया है।

अमित राठौर   ने आगे कहा कि - भारत एक लोककल्याणकारी लोकतांत्रिक देश है ,जंहा शासक को लोककल्याण हेतु ही कार्य करने होते हैं। लेकिन विगत छह सात वर्षों से देश मे जो सरकार बैठी है, वह लगातार इस पर असफल साबित हो रही है।

  लोककल्याणकारी देश मे लोक कल्याण हेतु सरकारी संस्थाओ का एक अपना अलग ही महत्व होता है ,परन्तु वर्तमान सरकार लगातार इनका निजीकरण करते जा रही है,जिसके दुरगामी परिणाम जनहित में नही है।

  इसके फलस्वरूप देश भर में करोड़ो की संख्या में बेरोजगारी बढ़ी है , बहुसंख्यक लोगो के आय में कमी आई है तो दूसरी ओर मंहगाई आसमान छू रही है।

रसोई गैस, सरसो तेल,पेट्रोल, डीजल की कीमत,अंतरराष्ट्रीय बाजार में बहुत कम होने के बावजूद भारत सरकार द्वारा लगातार बढ़ाये जा रहे है। यह सब बातें एक लोककल्याणकारी राज्य के लिए कतई उचित नही है।

  सबसे बड़ी विडंबना यह है कि वे  सेलेब्रेटी   जो 2012-13 में पेट्रोल को 70 रुपया लीटर में आने पर जनता को ट्वीट कर बताते थे कि- "अब सायकल बाहर निकालना चाहिए", "दो चार रुपये का पेट्रोल दे दो ,ताकि गाड़ी में छिड़क सके ," और जनता को महंगाई के विरुद्ध आव्हान करते थे,वे भी इस कमरतोड़ मंहगाई में मुंह सील कर बैठे है ,मानो उन्हें जनता से मतलब ही नहीं है।