breaking news New

अमेरिकी सैनिकों को पाकिस्तान में ठहरने के लिए 21 से 30 दिनों तक का ट्रांजिट वीजा जारी

अमेरिकी सैनिकों को पाकिस्तान में ठहरने के लिए 21 से 30 दिनों तक का ट्रांजिट वीजा जारी

पाकिस्तान के गृह मंत्री शेख रशीद अहमद ने कहा है कि  अमेरिकी सैनिकों को पाकिस्तान में ठहरने के लिए 21 से 30 दिनों तक का ट्रांजिट वीजा जारी किया गया है.अफगानिस्तान से आने वाले अमेरिकी सैनिक पाकिस्तान में लंबे समय के लिए नहीं रुकेंगे. पाकिस्तान, अमेरिकी सैनिकों को अपना सैन्य ठिकाना मुहैया कराने से पहले ही इनकार कर चुका है.

अमेरिका ने अपनी सैनिकों की निकासी के बाद अफगानिस्तान में तालिबान की गतिविधियों पर निगरानी रखने के लिए पाकिस्तान से सैन्य बेस की मांग की थी. लेकिन पाकिस्तान ने यह कहते हुए अमेरिका की मांग को पूरा से इनकार कर दिया था कि वो अब तालिबान के खिलाफ और जोखिम नहीं उठाना चाहता है. 

 उन्होंने कहा कि अफ़ग़ानिस्तान से आने वाले लोगों को 21 से 30 दिनों तक का ट्रांज़िट वीज़ा जारी किया जा रहा है. शेख रशीद ने एक सवाल के जवाब में कहा कि अफगानिस्तान से 2,192 लोग तोरखम सीमा से पाकिस्तान में दाखिल हुए हैं, जबकि 1,627 हवाई मार्ग से इस्लामाबाद आए हैं. उन्होंने कहा कि चमन सीमा से कम संख्या में लोग आए हैं.

 उन्होंने कहा कि पाकिस्तान एक "जिम्मेदार देश" है और वह राष्ट्रीय सुरक्षा और अंतरराष्ट्रीय अपेक्षाओं के अपने कर्तव्य को पूरा करेगा. , "हमने केवल इस्लामाबाद में 3,000 लोगों को समायोजित करने की व्यवस्था की है. अफगानिस्तान से पाकिस्तान आने वाले किसी भी राष्ट्रीयता के किसी भी व्यक्ति को 21 दिनों का ट्रांजिट वीजा दिया जाएगा."पाकिस्तान के अलावा किसी अन्य देश ने अफगानिस्तान में शांति के लिए बलिदान नहीं दिया.