breaking news New

जूतों पर बीआईएस मानक लागू करने की तिथि बढ़ी

जूतों पर बीआईएस मानक लागू करने की तिथि बढ़ी

नयी दिल्ली।  केंद्र सरकार ने जूता उद्योग को प्रोत्साहन देने, निर्यात को सुगम बनाने तथा गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए चमड़े, प्लास्टिक और कपड़े के जूतों पर भारतीय मानक ब्यूरो - बीआईएस मानक लागू करने की अवधि एक जुलाई 2021 तक बढ़ा दी है।

केन्द्रीय वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के सूत्रों ने शनिवार को बताया कि घरेलू व्यापार और उद्योग संवर्धन विभाग ने इस संबंध में देर रात अधिसूचनायें जारी की। यह अधिसूचनायें एक जुलाई 2021 से प्रभावी होंगी। ये अधिसूचनाएं पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्विपमेंट-फुटवियर (क्वालिटी कंट्रोल) ऑर्डर, 2020, लेदर और अन्य मेटेरियल से बने फुटवियर (क्वालिटी कंट्रोल) ऑर्डर, 2020 और रबड़ से बने फुटवियर और सभी पॉलिमर सामग्री और उसके कलपुर्जे (क्वालिटी कंट्रोल) ऑर्डर, 2020 हैं।

केंद्र सरकार का यह कदम देश के जूता व्यापार एवं उद्योग तेजी के साथ 'लोकल पर वोकल' और आत्मनिर्भर भारत अभियान को पूरा करने में एक बड़ी भूमिका का निर्वाह करेगा। ये तीन अधिसूचनाएं 28 अक्टूबर, 2020 को जारी किए गए आदेश में संशोधन करती हैं।

अखिल भारतीय व्यापारी परिसंघ ने जूता उद्योग पर बीआईएस मानक लागू करने की तिथि बढ़ाने की मांग की थी। तिथि बढ़ाने पर उन्होंने केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल का आभार व्यक्त किया है।

चीन के बाद भारत जूता उद्योग का दूसरा सबसे बड़ा वैश्विक उत्पादक है और वैश्विक उत्पादन में 13 प्रतिशत हिस्सेदारी है। देश का जूता उद्योग अभी भी कारीगर उत्पादन प्रणाली पर आधारित है जबकि बीआईएस मानकों के पालन के लिए निर्माण इकाइयों को उन्नत करना पड़ेगा।