breaking news New

40 हजार कारें वापस मंगाएगी मारुति, इनमें आपकी कार तो नहीं

40 हजार कारें वापस मंगाएगी मारुति, इनमें आपकी कार तो नहीं

नई दिल्ली. देश की सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी मारुति सूजुकी लिमिटेड ने ईको की 40,453 यूनिट वापस मंगाने की घोषणा की है। ये गाड़ियां 4 नवंबर 2019 से इस साल 25 फरवरी के बीच बनाई गई थीं। साथ ही इनमें कुछ ऐसी ईको गाड़ियां भी हैं जिनमें हेडलैंप फील्ड में बदला गया है। कंपनी ने आज एक बयान में यह जानकारी दी।

कंपनी ने कहा कि वह ईको की 40,453 यूनिट की जांच करेगी। इनके हेडलैंप में स्टैंडर्ड सिंबल के मिसिंग की आशंका है। कंपनी का कहना है कि अगर इसे दुरुस्त करने की जरूरत पड़ती है तो ऐसा निशुल्क किया जाएगा। इसके लिए मारुति सूजुकी के अधिकृत डीलर इन वाहनों के मालिकों से खुद ही संपर्क करेंगे। इस वाहनों के मालिक कंपनी की वेबसाइट सेक्शन में जाकर अपने वाहन का 14 अंकों का चेसिस नंबर डालकर देख सकते हैं कि उन्हें अपना वाहन दुरुस्त करने की जरूरत है या नहीं। यह नंबर वाहन की आईडी प्लेट पर उकेरा गया होता है। साथ ही यह वाहन के बिल/रजिस्ट्रेशन डॉक्यूमेंट्स में भी होता है।

कंपनी के भारत में 10 साल हाल में पूरे हुए हैं। इस अवधि के दौरान मारुति इको की 7 लाख से ज्यादा गाड़ियां बिकी हैं। वैन सेगमेंट में इसकी 90 फीसदी हिस्सेदारी है। इसके अलावा, ईको साल 2019-20 में टॉप 10 सबसे ज्यादा बिकने वाली गाड़ियों में से एक रही है। कंपनी का कहना है कि ईको के 84 फीसदी से ज्यादा कस्टमर्स प्री-डिटर्मन्ड बायर्स हैं। वहीं, 66 फीसदी ईको ओनर्स का मानना है कि दूसरी वैन्स के मुकाबले इको लंबी ड्राइव्स के लिए बेहद आरामदायक है।

अपने स्पेशियस डिजाइन और पावरफुल परफॉर्मेंस के दम पर अलग पहचान बनाई है। ईको बिजनेस और पर्सनल दोनों ही जरूरतों को पूरा करती है। इसके 50 फीसदी से ज्यादा कस्टमर्स बिजनस और पर्सनल दोनों ही काम में इसका इस्तेमाल करते हैं। मारुति सुजुकी की यह वैन 12 वेरियंट्स में आती है, जिनमें 5 सीटर, 7 सीटर, कार्गो और एंबुलेंस शामिल हैं।