breaking news New

Breaking : election gifts - नवम्बर में UP को मिलेगा ढेरों चुनावी सौगात, तैयारी जोरो पर

Breaking :  election gifts - नवम्बर में  UP को मिलेगा ढेरों चुनावी सौगात, तैयारी जोरो पर

लखनऊ।  विधानसभा चुनाव की दहलीज पर खड़े उत्तर प्रदेश के बाशिंदो के लिये दीपावली जैसी खुशियां अभी लंबी चलने वाली हैं। राज्य में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार ने विकास के तोहफे जनता को देने की पूरी तैयारी कर रखी है जिनमे कई का उदघाटन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी करेंगे।

आधिकारिक सूत्रों ने सोमवार को कहा कि प्रदेश की जनता के लिए नवंबर ऐतिहासिक माह साबित होगा। इस महीने सूबे की जनता को कई ऐसी मेगा परियोजनाओं की सौगात मिलेगी। ये वह परियोजनाएं हैं जिनका निर्माण कार्य मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सत्ता संभालने के बाद शुरू कराया था। परियोजनाओं में पूर्वांचल एक्सप्रेसवे और काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर का निर्माण कार्य पूरा हो गया है। इस महीने अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन मेगा परियोजनाओं को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में सूबे की जनता को सौंपेंगे।

इसके साथ ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जेवर एयरपोर्ट, फिल्म सिटी और गंगा एक्सप्रेस वे जैसी मेगा परियोजनाओं की आधारशीला भी रखेंगे। इसके अलावा गोरखपुर का बंद पड़ा खाद कारखाना और गोरखपुर एम्स भी अगले माह तक शुरू हो जाएगा।

राज्य में यह पहला अवसर है जब किसी नवंबर और दिसंबर में जनता के उपयोग वाली करोड़ों रुपए खर्च कर तैयार कराई गई कई मेगा परियोजनाएं जनता को सौंपी जाएंगी। इसके तहत मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में करीब 42 हजार करोड़ रुपए की लागत से तैयार कराया गया 340.82 किमी लंबा पूर्वांचल एक्सप्रेस वे इस माह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जनता को सौंपेंगे। जबकि करीब 36,000 करोड़ रुपए की लागत से तैयार होने वाले गंगा एक्सप्रेस वे की आधारशिला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा अगले माह रखी जाएगी।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ड्रीम प्रोजेक्ट कहे जाने वाले पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास जुलाई 2018 में आजमगढ़ में प्रधानमंत्री मोदी ने किया था। इस एक्सप्रेस-वे को पूर्वी यूपी के लिए लाइफ लाइन कहा जा रहा है।

लखनऊ से आजमगढ़ और मऊ होते हुए गाजीपुर तक 340.824 किमी लंबे इस एक्सप्रेस-वे पर वाहनों के फर्राटा भरने से जहां समय के लिहाज से पूर्वी और पश्चिमी यूपी के बीच की दूरी कम हो जाएगी, वहीं व्यापार और वाणिज्य को पंख लगेंगे। करीब 15,000 करोड़ रुपए की लागत से 296.07 किमी लंबा बुन्देलखंड एक्सप्रेस वे के निर्माण का कार्य तेजी से हो रहा है।