breaking news New

ब्रेकिंग : एयर इंडिया ने मांगी माफी..कर्मचारियों ने की बदसलूकी तो पत्रकार ने किया ट्‌वीट.. कंपनी बिकने तक व्यवस्था ठीक रखिए..बुकिंग होने के बावजूद यात्रा करने से मना किया था कंपनी ने

ब्रेकिंग : एयर इंडिया ने मांगी माफी..कर्मचारियों ने की बदसलूकी तो पत्रकार ने किया ट्‌वीट.. कंपनी बिकने तक व्यवस्था ठीक रखिए..बुकिंग होने के बावजूद यात्रा करने से मना किया था कंपनी ने

नयी दिल्ली. घाटे में चल रही सरकारी विमानन कंपनी एयर इंडिया का या तो निजीकरण हो जायेगा या यह कंपनी बंद हो जायेगी. पिछले कई सालों से नुकसान में चल रही कंपनी के 100 फीसदी निजीकरण को लेकर सरकार ने बोलियां आमंत्रित कर दी हैं.

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने भी पिछले महीनें ही कहा था कि सरकार या तो कंपनी को निजी हाथों में सौंप देगी या फिर इसे बंद कर दिया जायेगा. किसी कंपनी के घाटे में जाने के कई कारण होते हैं. इसमें कर्मचारियों को गैरजिम्मेदाराना रवैया भी शामिल है. एयर इंडिया से जुड़ी एक ऐसी ही कहानी सुनिए...

पेशे से पत्रकार मुकेश केजरीवाल के एक ट्वीट ने एयर इंडिया के अधिकारियों के कान खड़े कर दिये हैं. दरअसल मुकेश ने अपने ट्विटर हैंडल पर एक वाकया शेयर किया है जिसमें एयरपोर्ट पर बोर्डिंग के समय एयर इंडिया के कर्मचारियों का यात्रियों के साथ रवैये का चित्रण किया गया है. इसमें बताया गया है कि प्राइवेट एयरलाइन कंपनी और एयर इंडिया के कर्मचारियों के रवैये में कितना अंतर है.

मुकेश ने अपने पोस्ट में लिखा है, दोस्तो एयर इंडिया के मालिक हम सब हैं, बेच दी जाए तब तक खबर रखनी जरूरी है. उन्होंने लिखा कि दिल्ली एयरपोर्ट पर चेक इन के लिए लाइन में खड़े एक शख्स को बुकिंग के बावजूद कह दिया गया कि सीट फुल है. आप नहीं जा सकते. इसके बाद जो हंगामा हुआ. लेकिन एयर इंडिया के कर्मचारी कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थे.

एयर इंडिया के कर्मचारी ने इस जिप लॉक को देने से मना कर दिया और कहा कि एयर इंडिया नहीं देता है, आपका सामान चोरी नहीं हो सकता कोई स्टॉफ सामान को नहीं छूता है. कुछ सीनियर स्टाफ से कहा गया तो उन्होंने भी बेरुखे शब्दों में जवाब दिया कि आपके टिकट में लिखा है क्या कि हम जिप लॉक देंगे. लॉक खरीद कर क्यों नहीं लाते.

फिर मुकेश ने लिखा कि चेक इन लगेज सुरक्षित रखने के लिए एयरलाइन कंपनियां एक जिप लॉक लगाती हैं, जो एयर इंडिया की ओर से नहीं दिया गया. उन्होंने लिखा कि यह मुश्किल से 50 पैसे के आता होगा, सभी एयरलाइन कंपनियां बैग को इससे लॉक करती हैं ताकि इसे काटे बिना बैग को खोला नहीं जा सके. ऐसा सामानों की सुरक्षा के लिए किया जाता है.

मुकेश ने आगे लिखा कि बगल में एक प्राइवेट एयरलाइंस कंपनी का काउंटर था, जब उससे एक जिप लॉक मांगा तो उसने पांच-छह दे दिये. जब एयर इंडिया वालों को बताया तो उन्होंने खीझते हुए कहा कि आप दूसरी एयरलाइंस का जिप लॉक नहीं लगा सकते. उन्होंने लिखा कि किसी भी एयरलाइंस के लिए इतना गैर पेशेवर रवैया अब तक नहीं देखा था.

इसके बाद विमान तय समय से एक घंटे बाद खुला. मुकेश के इस ट्वीट के कई घंटों बाद एयर इंडिया के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट कर मुकेश से माफी मांगी गयी. एयर इंडिया ने लिखा कि मुकेश जी आपको हुई देरी के लिए हम माफी मांगते हैं. आपको हुई असुविधा के लिए हमें खेद है, कृपया अपना टिकट नंबर शेयर करें. मुकेश के ट्वीट पर कई प्रतिक्रियाएं भी आई हैं, जिसमें कर्मचारियों के रवैये की तीखी आलोचना की गयी है.