breaking news New

अनुकम्पा नियुक्ति नियम का अनुकम्पा नियुक्ति के पात्र पेन्शनर परिवार के हक में सरलीकरण करे सरकार

अनुकम्पा नियुक्ति नियम का अनुकम्पा नियुक्ति के पात्र पेन्शनर परिवार के हक में सरलीकरण करे सरकार


 10℅ सीलिंग 1 साल के लिये नहीं हमेशा के लिए हटाये....

रायपुर, 22 मई। छत्तीसगढ़ राज्य सँयुक्त पेंशनर्स  फेडरेशन ने राज्य सरकार से अनुकम्पा नियुक्ति नियमावली का परीक्षण कर सरलीकरण करने की मांग करते हुए सीलिंग सीमा 10% को हमेशा के लिये हटाने की मांग की है।

छत्तीसगढ़ राज्य संयुक्त पेन्शनर फेडरेशन के प्रदेश अध्यक्ष वीरेन्द्र नामदेव ने आगे बताया है कि अनुकम्पा नियुक्ति को लेकर राज्य बनने के बाद अलग अलग कई आदेश जारी किये है और सारे आदेश को जोड़ तोड़कर अनुकंपा नियुक्ति संबंधी एकजाई आदेश 23 फरवरी 2019 को जारी किया गया है।इस लम्बा चौड़ा एकजाई निर्देश को पढ़ना और उसे समझना और फिर उस पर अमल करना निचले स्तर कार्यालयों में अबूझ पहेली बना हुआ है।हर बार एक दुसरे पूछताछ किये बगैर यह आदेश किसी के पल्ले नही पड़ता है। चूंकि इस नियम का सबसे ज्यादा वास्ता दिवंगत शासकीय सेवक के उन परिजनों से पड़ता है, जो पेन्शनर परिवार से सम्बंधित होते हैं,जिनमें अनेक पेन्शनर परिवार ऐसे हैं जो कम पढ़े लिखे होने के कारण नियम को समझने में असमर्थ रहते और जानकारी के चक्कर मे दलालों के चंगुल में फंस जाते हैं मजेदार बात तो यह है कि इस आदेश को जारी करने वाले लोग भी इसकी व्याख्या करने में असमर्थ होते हैं और उनसे प्रत्यक्ष सम्पर्क कर पूछे जाने पर कहते हैं, मैंने नही बनाया, मेरे पहले जो था उनसे पूछो,इस हालत में हताश होकर आपदा में अवसर ताक रहे लोगो के पास जाने के सिवाय कोई रास्ता नही रहता। इसलिए जिम्मेदार विभाग के अधिकारियों को बिना लाग लपेट सीधा सरल नियमावली तैयार कर जारी करने की जरूरत है, ताकि दिवंगत के परिजन को अनुकम्पा नियुक्ति प्राप्त करने में सहजता हो।

पेन्शनर फेडरेशन के अध्यक्ष वीरेन्द्र नामदेव और फेडरेशन से जुड़े पेन्शनर एसोसिएशन छत्तीसगढ़ के प्रांताध्यक्ष यशवन्त देवान, भारतीय राज्य पेंशनर्स महासंघ छत्तीसगढ़ प्रदेश के अध्यक्ष जयप्रकाश मिश्रा तथा प्रगतिशील पेन्शनर कल्याण संघ के प्रांताध्यक्ष आर पी शर्मा ने अनुकम्पा नियुक्ति हेतु जारी एकजाई आदेश को परिवर्तन कर तुरन्त सरलीकरण करने और अनुकम्पा नियुक्ति पर 10%सीलिंग के नियम को हमेशा के लिये हटाये जाने की मांग किया है।