breaking news New

Breaking : छत्तीसगढ़ के 15 कांग्रेस विधायक आलाकमान से मिलने दिल्ली रवाना

Breaking : छत्तीसगढ़ के 15 कांग्रेस विधायक आलाकमान से मिलने दिल्ली रवाना

रायपुर . पंजाब कांग्रेस में मचे घमासन के बीच छत्तीसगढ़ में सत्तारूढ़ कांग्रेस के 15 विधायक पार्टी आलाकमान से मिलने आज अचानक दिल्ली रवाना हो गए।इससे एक बार फिर राज्य में राजनीतिक सरगर्मी बढ़ने के आसार दिखाई पड़ने लगे है।

राज्य में लगभग एक माह से नेतृत्व परिवर्तन को लेकर अटकलों का बाजार गर्म है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इस दौरान दो बार पार्टी नेता राहुल गांधी एवं पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी से मिल चुके है,जबकि उन्हे हटाने के लिए प्रयासरत स्वास्थ्य मंत्री टी.ए.सिंहदेव भी दोनो नेताओं से मिल चुके है।श्री सिंहदेव कई बार राज्य में नेतृत्व परिवर्तन तय होने का संकेत दे चुके है,लेकिन मुख्यमंत्री बघेल नेतृत्व को कोई खतरा नही होने की बात करते रहे है।

श्री बघेल ने पिछले दौरे में श्री गांधी को छत्तीसगढ़ खासकर नक्सल प्रभावित एवं आदिवासी बाहुल्य बस्तर का विकास देखने के लिए आमंत्रित किया था।श्री गांधी ने उनका आमंत्रण स्वीकार कर लिया था और एक सप्ताह में ही आने का वादा किया था पर लगभग एक माह होने को है उनका दौरा अभी तक नही लग सका है।श्री गांधी का दौरा अभी तक तय नही होने को लेकर तरह तरह की कयासबाजी दोनो ओर से चलती रही है।

अचानक 15 विधायकों के दिल्ली जाने का घोषित तौर पर कारणों का पता नही चला है,लेकिन जानकारों का मानना है कि यह सभी मुख्यमंत्री बघेल के समर्थन में आलाकमान से मिलने दिल्ली गए है।इनके द्वारा विधायकों के हस्ताक्षरित ज्ञापन में ले जाने की खबरें है जिसमें राज्य में नेतृत्व परिवर्तन नही करने का अनुरोध किया गया है।यह विधायक श्री गांधी से राज्य का दौरा भी जल्द करने का अनुरोध करेंगे।

पार्टी के राज्य प्रभारी पी.एल.पुनिया इन दिनों लखनऊ में है और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के उ.प्र. चुनावों से सम्बधित बैठकों एवं कार्यक्रमों में व्यस्त है।दिल्ली में श्री गांधी या फिर पार्टी महासचिव वेणुगोपाल से मिलने का इन्होने समय लिया है या नही यह भी स्पष्ट नही है।इन विधायकों में कुछ संसदीय सचिवों के अलावा श्री सिंहदेव पर जान से मारने का षडयंत्र रचने का पूर्व में आरोप लगा चुके चर्चित विधायक वृहस्पति सिंह भी शामिल है।

राजनीतिक जानकारों का मानना हैं कि इन विधायकों का दिल्ली जाने का जो भी एजेन्ड़ा हो,और इनकी जिससे भी मुलाकात हो,लेकिन इस पूरी कवायद से यह तय हैं कि अभी नेतृत्व को लेकर मामला पूरी तरह से नही सुलझा है।