कोरोना वायरस पुरुषों बना सकता है नपुंसक

कोरोना वायरस पुरुषों बना सकता है नपुंसक


नईदिल्ली।  कोरोना वायरस  पुरुषों के सेक्स हार्मोन्स पर असर डाल रहे हैं. उन्हें नपुंसक बना रहे हैं।  इसकी वजह से पुरुषों के अंडकोष खराब हो रहे हैं।  साथ ही उनमें उत्तेजना की कमी आ सकती है।  इस बात का खुलासा किया है चीन की उस यूनिर्सिटी ने जो वुहान में है।  

वुहान यूनिवर्सिटी के झॉन्गनान अस्पताल में किए गए अध्ययन की रिपोर्ट medRxiv.org पर प्रकाशित हुई है. झॉन्गनान अस्पताल ने यह अध्ययन कोरोना वायरस से बीमार 81 पुरुषों पर किया है। 


ये 81 पुरुष 20 से लेकर 54 साल तक की उम्र के थे. इस अध्ययन में झॉन्गनान अस्पताल की मदद के लिए हुबेई क्लीनिकल रिसर्च सेंटर फॉर प्रीनेटर डायग्नोसिस एंड बर्थ हेल्थ के वैज्ञानिकों ने भी मदद की है। 



झॉन्गनान अस्पताल के डॉक्टरों की टीम ने पाया कि इन मरीजों के शरीर में टेस्टोस्टेरॉन और ल्यूटीनाइसिंग हार्मोन का अनुपात बिगड़ रहा है।  इसे T/LH अनुपात कहा जाता है। 


अगर T/LH अनुपात बिगड़ता है तो पुरुषों के अंडकोष सही से काम नहीं करते।  उनमें वीर्य बनना कम हो जाता है।  या फिर बंद हो जाता है।  साथ ही सेक्स हार्मोन की कमी आ जाती है। 


जिन पुरुषों का अध्ययन किया गया उनमें T/LH अनुपात 0.74 था. यानी सामान्य स्तर के आधे से भी कम. यह बेहद चिंताजनक बात है. इससे खतरा अगली पीढ़ी को हो जाएगा। 


टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन पुरुषों का मुख्य हार्मोन होता है जो अंडकोष, मांसपेशियां, हड्डियां और बाल बनाने में मदद करता है. ल्यूटीनाइसिंग हार्मोन पुरुष और महिलाओं दोनों में होता है. इससे पुरुष और महिलाएं उत्तेजित होते हैं। 


कोरोना वायरस की वजह से पुरुषों की उत्तेजना खत्म (इरेक्टाइल डिंसफंक्शन) हो रही है. साथ ही ऐसे पुरुषों का सीना लटकने लगता है. इस समस्या की वजह से पुरुषों की सेक्स करने की क्षमता कम हो जाएगी। 


उत्तेजना की कमी को ठीक किया जा सकता है. लेकिन जब थोड़ा बहुत कम हो. चीन में तो कोरोना पीड़ित पुरुषों का T/LH अनुपात 0.74 था. हार्मोन के लिए इलाज है लेकिन वह तब होता है जब T/LH अनुपात 0.87 से ज्यादा हो।वुहान के मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर ली यूफेंग ने बताया कि कोरोना वायरस पुरुषों के अंडकोष पर हमला कर सकता है. उन्हें निष्क्रिय कर सकता है। 

 अब झॉन्गनान अस्पताल के वैज्ञानिक चाहते हैं कि इसका अध्ययन बड़े पैमाने पर हो ताकि ज्यादा स्पष्ट आंकड़ें और परिणाम सामने आ सकें।


chandra shekhar