breaking news New

लिखना होगा रोज दो पृष्ठ का ईमला...बिगड़ चुकी handwriting सुधारने स्कूलों में नई व्यवस्था

लिखना होगा रोज दो पृष्ठ का ईमला...बिगड़ चुकी handwriting सुधारने स्कूलों में नई व्यवस्था

राजकुमार मल

भाटापारा- ग्रीष्मकालीन अवकाश के बाद जब स्कूलें फिर से खुलेंगीं तब छात्रों को एक नई तरह की शिक्षा हासिल करनी होगी। अपनी किसी भी पाठ्य पुस्तक से दो पृष्ठ का ईमला हर रोज लिखकर लाना होगा।  टीचर नियमित जांच करेंगे और बताएंगे कि हैंडराइटिंग में सुधार की और कितनी संभावना है ?


कोरोना संक्रमण के दौर में ऑनलाइन क्लास के परिणाम नए-नए रूप में दिखाई देने लगे हैं। नई समस्या यह है कि छात्रों की हैंडराइटिंग इतनी खराब हो चुकी है कि टीचरों को पढ़ने में बेतरह दिक्कत हो रही है। यह जानकारी तब आई, जब बोर्ड एग्जाम की कॉपियों की जांच शुरू हुई। मामला गंभीर था, इसलिए इसकी जानकारी तत्काल मुख्यालय को भेजी गई। फौरन इसे संज्ञान में लिया गया और विचार-विमर्श के बाद स्कूलों में उपचारात्मक शिक्षण योजना के तहत प्रतिदिन दो पृष्ठ का ईमला लिखकर लाने के आदेश जारी किए गए है।

इसलिए बिगड़ी हैंडराइटिंग

महामारी के दौरान दो साल से बंद स्कूलों में शिक्षण का काम ऑनलाइन होता रहा। इसका सबसे ज्यादा असर लिखावट और स्मरण शक्ति पर दिखाई दिया। स्कूलें पूरी क्षमता के  साथ संचालित होने के बाद, पहला ध्यान परीक्षाओं पर रहा। इसके बाद जब कॉपियों की जांच का काम चालू हुआ तब यह गंभीर जानकारी सामने आई। मालूम हुआ कि इस दौर में छात्रों में लिखने की आदत लगभग छूट गई है, साथ ही स्मरण शक्ति भी कमजोर हो गई है।

अब रोज दो पृष्ठ



मुख्यालय के आदेश के बाद ग्रीष्मकालीन अवकाश के बाद जब स्कूलें फिर से संचालन में आएंगीं, तब छात्रों को प्रतिदिन दो पृष्ठ का ईमला लिखकर लाना होगा। शिक्षक नियम से प्रतिदिन इसकी जांच करेंगे। छात्रों को बताएंगे की हैंडराइटिंग में कैसे सुधार किया जा सकता है ? उपचारात्मक शिक्षण योजना के तहत यह काम ना केवल पूरी गंभीरता से करना होगा बल्कि प्रतिदिन की रिपोर्ट भी खंड शिक्षा विभाग को भेजनी होगी।

ऐसे बढ़ाएंगे स्मरण शक्ति

परीक्षाएं होती रहतीं तो याददाश्त की क्षमता बरकरार रहती लेकिन जनरल प्रमोशन की व्यवस्था ने इसे बेतरह नुकसान पहुंचाया है। बोर्ड परीक्षाओं की जांच की जा रही उत्तर पुस्तिकाओं में सवालों के जवाब, जिस तरह दोहराव लिए हुए मिल रहे हैं, उसके बाद अब स्कूलों में नियमित रूप से पाठ्य पुस्तक का एक पाठ याद करना होगा और बिना किताब या कॉपी देखें सुनाना होगा। यह व्यवस्था भी ग्रीष्मकालीन अवकाश के बाद  स्कूलों में दिखाई देगीं।

आदेश जारी


उपचारात्मक शिक्षण व्यवस्था के तहत हैंडराइटिंग में सुधार और स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए जो उपाय सुझाए गए हैं, इसका पालन छात्रों और स्कूलों को करना होगा। सभी स्कूलों को विधिवत आदेश जारी कर दिए गए हैं।

- के के यदु, खंड शिक्षा अधिकारी, भाटापारा