breaking news New

ब्रेकिंग : कांग्रेस शासन में दर्जनभर खेल जोन समाप्त, तुस्टीकरण की राजनीति से 24 हजार खिलाड़ी प्रतिस्पर्धा से दूर

ब्रेकिंग : कांग्रेस शासन में दर्जनभर खेल जोन समाप्त,  तुस्टीकरण की राजनीति से 24 हजार खिलाड़ी प्रतिस्पर्धा से दूर

राजनांदगांव।  शिक्षा विभाग ने राज्य सरकार के इशारे में दर्जनभर खेल जोन समाप्त कर लगभग 24 हजार खिलाड़ियों को प्रतिस्पर्धा से बाहर कर दिया है अब केवल राज्य स्तरीय खेलकूद प्रतियोगिता में पांच संभाग के खिलाड़ी ही पहुंच रहे हैं। खेल जोन समाप्त करने पर भाजयुमो के जिला स्वाध्याय योजना प्रभारी कमलेश प्रजापति ने तीखे स्वर में आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि एक ओर देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने खेल को बढावा देते हुए करोड़ों के बजट पेश किये नये खेल मैदान बनवाये साथ ही खिलाड़ियों से प्रत्यक्ष मिलकर उनका मनोबल बढाया वही दुसरे ओर प्रदेश के भूपेश बघेल की सरकार खेल को बढावा देने के बजाय खिलाड़ियों के प्रतिस्पर्धा व्यवधान उत्पन्न कर रहे हैं, इस आदेश से सर्वाधिक नुकसान आदिवासी खिलाड़ियों को काफी नुकसान का सामना करना पढ रहा है एवं जोन स्तर पर चयनित होकर राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में 26000 से अधिक खिलाड़ी भाग लेते थे, लेकिन इस बार केवल 1080 खिलाड़ियों को ही मौंका मिला विभिन्न खेलो के 24 हजार खिलाड़ियों के सपने को रौदने का कार्य प्रदेश के मुख्यमंत्री ने किया है, तथा खेल सुविधाओं के क्षेत्र में अब तक ढाई वर्ष बीत चुका है परंतु को खेल सुविधा उपलब्ध नहीं है जिसके अभाव में छत्तीसगढ़ के खिलाड़ियों को अंर्तराष्ट्रीय, ओलंपिक में पदक हासिल करना मुश्किल हो गया है श्री प्रजापति ने बताया कि वे स्वयं ताइक्वांडो ,वुशू खेल के राज्य स्तरीय, नेशनल एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कई प्रतिस्पर्धा में गये एवं पदक जीता है तो एक खिलाड़ी ही खिलाड़ी के दर्द को समझ सकते हैं हो सकता है कि खेल संचालन विभाग को जोन समाप्त करने पर अब उनका कार्य का बोझ कम हो गया होगा परन्तु आनन- फानन में जारी किए गए खेल कलेण्डर ने खिलाड़ियों एवं खेल शिक्षकों को हजार चिंता में डाल दिया है।