breaking news New

18+ टीकाकरण को सर्वसुलभ किया जाए : कृष्ण बिहारी जायसवाल

18+ टीकाकरण को सर्वसुलभ किया जाए : कृष्ण बिहारी जायसवाल

 बैकुंठपुर, २ मई. 

भारतीय जनता पार्टी के ज़िलाध्यक्ष श्री कृष्ण बिहारी जायसवाल ने प्रेसविज्ञप्ति जारी कर छत्तीसगढ़ में टीकाकरण में आरक्षण के मामले  को  जनता के साथ धोखा बताते हुए कहा कि भूपेश सरकार इस घोर आपदा में राजनीतिक अवसर खोज रही है ।हमारे  देश  के वैज्ञानिकों ने बड़ी मेहनत के साथ कोविड -19 के टीके का ईजाद करके हम सभी को वो तोहफ़ा दिया , जिसका पूरे विश्व को बेसब्री से इंतेज़ार था । काफ़ी समय बाद केंद्र सरकार ने 1 मई से 18+  को टीकाकरण करने की अनुमति प्रदान की । केंद्र सरकार के इस फ़ैसले से जहां आम जनता में ख़ुशी का माहौल था , और लोग आगे आकर अपना रजिस्ट्रेसन करवा रहे थे , वही दूसरी तरफ  छत्तीसगढ़ ! जो संक्रमण के मामले में देश में अव्वल है । वहाँ  इस मामले में लोगों को निराशा ही हाथ लग रही है । ऐसे माहौल में जब हर कोई अपने प्रियजनो को खो रहा है । बीते समय लगातार दो दिनो  में हमने भारतीय जनता पार्टी जिला कोरिया के तीन ऊर्जावान कार्यकर्ता खोए हैं श्री जोसेफ जॉर्ज जी, श्री विष्णु राजवाड़े जी, श्री हाजी अनीस अहमद जी इन तीनों का दुखद निधन कोरोना के चपेट में आने से हुआ। जिसमें स्व श्री हाजी अनीश जी का देहांत कोरोना जाँच किट ना होने की वजह से हुआ । उनके परिजन टेस्ट के लिए यहाँ वहाँ भटकते रहे । किंतु लापरवाही एवं अव्यवस्थाओं की वजह से सही समय पर उन्हें इलाज नहीं मिल सका । मनेन्द्रगढ में हम सभी ने कार के भीतर ही ड्रिप लगवाते हुए मरीज़ की तस्वीरें देखी । ऐसे विपरीत समय में छत्तीसगढ़ की स्वास्थ्य व्यवस्था पूरी तरीके से चरमराई हुई है।

भूपेश सरकार ने टीके पर भी आरक्षण व्यवस्था लागू करके अपनी जनता को ही छलने का काम किया है ।  ऐसा लगता है कि सरकार का मूख्य उद्देश्य केवल और केवल चुनाव ही है ।चुकि विगत तीन वर्षों में यह सरकार  हर दिशा में फेल हो चुकि है इसलिये एक वर्ग को खुश करने के लिए अंत्योदय फिर बीपीएल और अंत मे एपीएल को टीकाकरण करने का कार्य करेगी। इस पूरे मामले में भाजपा ज़िलाध्यक्ष श्री जायसवाल का कहना है कि  यह महामारी सभी समुदाय , वर्ग  को  समान रूप से प्रभावित कर रही है , ऐसे में कोरोना टीकाकरण बिना किसी भेदभाव के सभी 18+ को किया जाना चाहिये न कि राशन कार्ड देखकर । मौजूदा दौर में छत्तीसगढ़ सरकार को चाहिए कि इस तरह के फ़ैसलों से अपनी नाकामी छुपाने की बजाए अपनी क्षमताओं में सुधार करे जिससे आम जनता को थोड़ी राहत मिल सके ।