breaking news New

उच्च न्यायालय ने दिए तोमर और कमलनाथ के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के आदेश

उच्च न्यायालय ने दिए तोमर और कमलनाथ के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के आदेश

ग्वालियर।  मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय की ग्वालियर खंडपीठ ने चुनावी सभा के दौरान कोविड संबंधी नियमों के उल्लंघन के सिलसिले में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

न्यायाधीश शील नागू और न्यायाधीश राजीव कुमार श्रीवास्तव की युगलपीठ ने कल अपने आदेश में केंद्रीय मंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ क्रमश: ग्वालियर और दतिया जिले के भांडेर में हाल में आयोजित सभाओं के सिलसिले में प्राथमिकी दर्ज करने के निर्देश दिए हैं।

याचिकाकर्ता आशीष प्रताप सिंह की याचिका पर सुनवायी के दौरान अदालत ने कहा कि कोरोना संकट को देखते हुये आगे से जो भी सभाएं होंगी, वे 'वर्चुअल' क्यों नहीं हो पा रही है, इसका कारण बताते हुए संबंधित निर्वाचन अधिकारी को लिखित में बताना होगा। इसके अलावा संबंधित प्रत्याशी को यह भी सुनिश्चित करना होगा कि सभा में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति को मॉस्क और सेनिटाइजर की सुविधा मुहैया करायी जाए।

अदालत ने कहा है कि यह सब सुनिश्चित होने पर निर्वाचन आयोग की अनुमति के बाद सभा हो सकेगी, लेकिन अनुमति लेने वाले व्यक्ति को प्रशासन के समक्ष अदालत के निर्देश के अनुरूप मॉस्क और सेनिटाइजर के लिए धनराशि भी जमा करानी होगी।

याचिकाकर्ता ने हाल ही में भांडेर और ग्वालियर में हुयी सभाओं का मामला अदालत के समक्ष उठाया है। इस संबंध में अदालत की ओर से पहले भी आदेश आए हैं। अब इस मामले की अगली सुनवायी 23 अक्टूबर निर्धारित की गयी है। अदालत ने कहा कि उसके आदेश की प्रति न्यायालय के क्षेत्राधिकार में आने वाले नौ जिलों के प्रशासन तक पहुंचायी जाए।

राज्य में 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव के लिए प्रक्रिया इन दिनों चल रही हैं। इनमें ग्वालियर चंबल अंचल की 16 सीट भी शामिल हैं।