breaking news New

आमदई खादान की खोदाई कार्य को बंद करने की मांग को लेकर सात जिलो के हजारों ग्रामीण हुए लामबंद

आमदई खादान की खोदाई कार्य को बंद करने की मांग को लेकर सात जिलो के हजारों ग्रामीण हुए लामबंद

नारायणपुर / नारायणपुर जिले के छोटेडोंगर से हजारों की संख्या में सात जिलो के ग्रामीण आमदई खदान की खोदाई को बंद करने की मांग और जल जंगल जमीन हमारा है का नारा लगाते हुए छोटेडोंगर से धौड़ाई 7 किलोमीटर रैली निकालकर पहुचे । धौड़ाई थाना से कुछ दूरी पर जिला और पुलिस प्रशासन ने बैरियर से पहले ग्रामीणों की रैली को रोका और उन्हें काफी समझाने की कोशिश की लेकिन ग्रामीण अपनी मांग पर अड़े हुए थे उनका कहना था कि जल जंगल जमीन और पहाड़ हमारे देवी देवता है , हमारे पूर्वजों के समय से हम उन्हें पूजते आ रहे है और सरकार अपने फायदे के लिए जल जंगल जमीन और पहाड़ को खोदाई करके नुकसान पहुचना चाहती है ऐसा हम होने नही देंगे । जब तक हमे पूर्ण आश्वासन नही दिया जाएगा कि आमदई खदान में खोदाई का कार्य नही किया जाएगा तब तक हम यही डटे रहेंगे । ये हजारो ग्रामीण नारायणपुर ओरछा मार्ग पर सड़क के बीचों बीच चक्काजाम करके बैठे है जिसके चलते आज छोटेडोंगर सफ्ताहिक बाजार के व्यापारियों के साथ कई चार पहिया वाहनों को वापस लौटना पड़ा वही एम्बुलेंस को ग्रामीणों ने आने जाने दिया । काफी दूरी से पैदल पहुचे ग्रामीण सड़क पर ही साथ मे लाये भोजन सड़क पर ही खाया ताकि उनका जाम लगातार चालू रहे ।  

ज्ञात हो कि गुरुवार को सात जिलो के हजारो ग्रामीण राशन सामग्री के साथ छोटेडोंगर पहुचे और रैली की शक्ल में आमदई खदान को बंद करने और जल जंगल जमीन हमारा है के नारे लगाते हुए छोटेडोंगर से धौड़ाई 7 किलोमीटर पैदल रैली निकाली । जहां धौड़ाई में पहुचते ही जिला प्रशासन से नायब तहसीलदार और पुलिस विभाग से एसडीओपी ने उन्हें रोककर घंटो समझाने की कोशिश की लेकिन ग्रामीण अपनी मांगों पर अड़े रहे । ग्रामीणों ने अधिकारियों से कहा कि जब तक एसपी , कलेक्टर या फिर विधायक आकार हमे पूर्ण आश्वासन दे कि आमदई खदान शुरू नही होगा तब तक हम यहां से नही हटेंगे । जल जंगल जमीन और पहाड़ियां हमारे देवी देवता है जिनको हम पूर्वजो के जमाने से पूजते आ रहे है । आमदई खदान में हमारे 84 परगना के देवी देवता निवास करते है जो 

हमारा लालन पालन करते है इनसे हमे वनोपज , लकड़ी , ओषधि , शुद्ध वातावरण मिलता है । सरकार अपने फायदे के लिए इन्हें नुकसान पहुचाकर हमारे साथ खिलवाड़ करना चाहती है हम ऐसा नही होने देंगे । प्रशासन हमे यहां आकर हमे पूर्ण आश्वासन देगी तो हम यहां से वापस चले जायेंगे नही तो ये आंदोलन हमारा जारी रहेगा । हम दो दिनों तक धौड़ाई मे रहेंगे यहा चक्काजाम रहेगा इस दौरान सिर्फ एम्बुलेंस और दुपहिया वाहन जिन्हें अत्यंत जरूरी हो उन्हें ही जाने दिया जाएगा । बीजापुर के ग्रामीणों ने कहा कि 24 नवम्बर से हम लोग पैदल निकले है 27 नवम्बर को करियामेटा में निर्दोषों ग्रामीणों को जबरन पकड़कर जेल भेजने  , आमदई खदान को शरू नही करने को लेकर केम्प के सामने धरना दिए वहा पर प्रशासन के कोई बड़े अधिकारी नही पहुचे तो हम लोग यहां छोटेडोंगर हजारो ग्रामीण पहुच कर रैली निकालकर धौड़ाई तक आये है जब तक हमारी मांग पूरी नही होगी तब तक हम यहां डटे रहेंगे ।