breaking news New

मलेरिया की रोकथाम के लिए गांव-गांव में होंगे जागरुकता कार्यक्रम

मलेरिया की रोकथाम के लिए गांव-गांव में होंगे जागरुकता कार्यक्रम

राजनांदगांव। मलेरिया के कारण, लक्षण व इससे बचाव के उपाय से संबंधित जागरुकता कार्यक्रम आयोजित कर जिले में 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाएगा। इस अवसर पर स्वास्थ्य विभाग व नगर निगम की संयुक्त पहल पर जन-जागरुकता रैली भी निकाली जाएगी, ताकि मलेरिया से बचाव हेतु लोगों को सतर्क किया जा सके।

मलेरिया एक गंभीर बीमारी है, जो मच्छर के काटने से फैलती है और विश्व की स्वास्थ्य समस्याओं में यह अभी भी एक गंभीर चुनौती है। पिछले दो दशकों में मलेरिया के उन्मूलन के लिए चलाए गए वैश्विक कार्यक्रमों से इस गंभीर बीमारी के आंकड़ों में कमी तो आई है, लेकिन अभी भी इस पर पूरी तरह नियंत्रण नहीं पाया जा सका है।

इस पर संपूर्ण नियंत्रण के लिए जारी प्रयासों के क्रम में हर साल 25 अप्रैल को विश्व मलेरिया दिवस मनाया जाता है। विश्व मलेरिया दिवस के अवसर इस साल भी स्वास्थ्य विभाग और नगर निगम की ओर से जागरुकता कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। 

मलेरिया विभाग की जिला सलाहकार संगीता पांडेय ने बतायाः राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के तहत भी जिले में मलेरिया, डेंगू व फाइलेरिया रोग उन्मूलन के लिए जिले में कई जन-जागरुकता के लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। जिले के विकासखण्डों, संवेदनशील गांवों, महाराष्ट्र व मध्यप्रदेश के सीमावर्ती सभी गांवों, सीआरपीएफ, आईटीबीपी कैम्प तथा पुलिस चौकी जैसे अन्य स्थानों पर मलेरिया उन्मूलन के लिए समय-समय पर गतिविधियां आयोजित की जाती हैं।

जिले के चिन्हित विकासखण्ड मानपुर-मोहला, खैरागढ़ व छुईखदान के अति संवेदनशील ग्रामों में मलेरिया, डेंगू एवं अन्य कीटनाशक बीमारियों से बचाव हेतु मच्छरदानी का उपयोग सुनिश्चित करने के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में हर वर्ष मच्छरदानियों का वितरण किया गया है। मच्छरदानी का उपयोग करने हेतु जन-जागरूकता के लिए मितानिन भी आवश्यक जिम्मेदारी निभा रही हैं। वे हर शाम 7 बजे सीटी बजाकर लोगों को मच्छरदानी लगाने की याद दिलाती हैं।

इस संबंध में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमएचओ) डॉ. मिथिलेश चौधरी ने बताया, मलेरिया की रोकथाम के लिए स्वास्थ्य विभाग के द्वारा हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। मलेरिया से बचाव हेतु आवश्यक सावधानियों का प्रचार-प्रसार करने के लिए समय-समय पर जागरुकता कार्यक्रम किए जाते हैं। विश्व मलेरिया दिवस के अवसर पर स्वास्थ्य विभाग व नगर निगम की ओर से संयुक्त जागरुकता अभियान चलाया जाएगा।

अस्पतालों में जांच शिविर लगाए जाएंगे तथा मलेरिया जागरुकता रथ भी निकाला जाएगा। उन्होंने अपील की है कि तेज बुखार, बदन दर्द, सिरदर्द, उल्टी, शरीर पर दाने, नाक से खून आना या उल्टी में खून आना जैसी कोई भी शिकायत होने पर तुरंत निकट के स्वास्थ्य केंद्र में जांच करवाएं, ताकि शीघ्र बेहतर उपचार किया जा सके। साथ ही हमेशा मच्छरदानी लगाकर सोने की आदत डालें। मच्छर न पनप सके, इसलिए घर के आसपास को साफ सुथरा रखें।