breaking news New

ग्रेटा थनबर्ग टूलकिट केस में पहला एक्शन : बेंगलुरु से क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि हुई गिरफ्तार

ग्रेटा थनबर्ग टूलकिट केस में पहला एक्शन : बेंगलुरु से क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि हुई गिरफ्तार

नई दिल्ली। किसान आंदोलन की आड़ में भारत के खिलाफ प्रोपेगेंडा वाले क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग के टूलकिट मामले में पुलिस को बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। दिल्ली पुलिस के स्पेशल सेल ने बेंगलुरु से 21 वर्षीय क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि को गिरफ्तार किया है। आरोप है कि एक्टिविस्ट दिशा रवि ने ही किसान आंदोलन से जुड़ी टूलकिट को एडिट किया था और उसे आगे भेजा था। दिल्ली पुलिस के मुताबिक इस टूलकिट का मकसद भारत सरकार के खिलाफ साजिश रचना है। केस केवल टूलकिट के क्रिएटर्स के खिलाफ दर्ज किया गया है।

इस मामले को लेकर आपराधिक साजिश, राजद्रोह और भारतीय दंड संहिता की अन्य धाराओं के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। दिल्ली पुलिस की साइबर इस मामले की जांच कर रही है। बता दें कि दिल्ली पुलिस गणतंत्र दिवस पर हुई लाल किले हिंसा के साथ-साथ टूलकिट मामले की भी जांच कर रही है।

दरअसल, दिल्ली में गणतंत्र दिवस के दिन ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा की जांच के दौरान ग्रेटा थनबर्ग द्वारा 'टूलकिट को अपलोड करने की बात का खुलासा हुआ था, जिसे बाद में उन्होंने डिलीट कर दिया था। पुलिस को शक है कि ग्रेटा थनबर्ग ने जो टूलकिट डॉक्यूमेंट ट्वीट करने के बाद उसे डिलीट किया था, वो पोएटिक फॉर जस्टिस ग्रुप द्वारा तैयार किया गया होगा। हिंसा को लेकर ट्विटर पर माहौल बिगाडऩे के लिए पूरी 'टूलकिट अपलोड की गई थी।

यह 'टूलकिट गूगल डॉक्यूमेंट में बनाई गई थी। चूंकि 'टूलकिट के अंदर कुछ इंस्टाग्राम प्रोफाइल, ट्विटर अकाउंट और ईमेल आईडी भी दिए गए थे, इसलिए दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने इन बसके बारे में और इनके डोमेन आईडी भी गूगल से मांगे हैं। दिल्ली पुलिस 'टूलकिटकी तफ्तीश कर रही है। साइबर सेल यह पता लगाने का प्रयास कर रही है इस किट को क्रिएट व अपलोड करने वाला कौन है।