breaking news New

अमेरिका के खिलाफ ट्रंप ने भड़काया घातक विद्रोह : उनके खिलाफ महाभियोग की कार्यवाही शुरू

 अमेरिका के खिलाफ ट्रंप ने भड़काया घातक विद्रोह : उनके खिलाफ महाभियोग की कार्यवाही शुरू

 वाशिंगटन । अमेरिकी संसद भवन कैपिटल बिल्डिंग पर पिछले सप्ताह हुई हिंसा के मद्देनजर अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर डेमोक्रेटिक-नियंत्रित अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने बुधवार को राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंपके समर्थकों द्वारा कैपिटोल  पर किए गए हमले को लेकर, जिसमें 5 लोगों की मौत हो गई थी, ऐतिहासिक दूसरे महाभियोग पर बहस  जारी है .

अमेरिकी नेताओं के नियंत्रण वाली  प्रतिनिधि सभा वोटिंग के लिए तैयार है.उम्मीद की जा रही है कि निचले सदन में सांसद में दोपहर 3:00 बजे 2000  महाभियोग के लिए मतदान होगा  - जो कि ट्रंप के खिलाफ कार्यवाही की औपचारिक शुरुआत होगी। पिछले सप्ताह अमेरिकी संसद परिसर में हिंसा में डोनाल्ड ट्रंप की भूमिका को लेकर अमेरिका के निचले सदन में उन पर महाभियोग के लिए वोटिंग होने जा रही है. 

डेमोक्रेटिक नियंत्रित अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने  US संसद के निचले सदन में आज ट्रंप के खिलाफ महाभियोग पर वोटिंग, स्पीकर-उप राष्ट्रपति के बीच लेटर वार US संसद के निचले सदन में आज ट्रंप के खिलाफ महाभियोग पर वोटिंग स्पीकर-उप राष्ट्रपति के बीच लेटर वार से शुरुवात होगी। 

    इससे पहले डेमोक्रेटिक नेताओं के नियंत्रण वाली अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने एक प्रस्ताव पारित करके देश के निवर्तमान उपराष्ट्रपति माइक पेंस से अपील की कि वह निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को पद से हटाने के लिए 25वां संशोधन लागू करें. इस प्रस्ताव को मंगलवार को 205 के मुकाबले 223 मतों से पारित किया गया. प्रस्ताव में पेंस से अपील की गई कि वह कैबिनेट से 25वां संधोशन लागू करने को कहें. इस संशोधन को पूर्व राष्ट्रपति जॉन एफ केनेडी की हत्या के मद्देनजर 50 साल से अधिक समय पहले पारित किया गया था. यदि कोई व्यक्ति राष्ट्रपति पद पर सेवा देने उपयुक्त नहीं रह जाता, तो उसकी जगह किसी और की नियुक्त किए जाने का प्रावधान करने के लिए इस संशोधन का उपयोग किया जाता है.

पिछले सप्ताह हुए कैपिटल बिल्डिंग पर  हिंसक हमले के मद्देनजर ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर डेमोक्रेटिक नेताओं के नियंत्रण वाली अमेरिकी प्रतिनिधि सभा बुधवार को मतदान करने के लिए तैयार है. इससे पहले पेंस ने प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी से कहा था वह 25वां संशोधन लागू नहीं करेंगे. पेंस ने प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी को लिखे पत्र में कहा, ‘‘हमारे संविधान में, 25वां संशोधन सजा देने या अधिकार छीनने का जरिया नहीं है. इस प्रकार से 25वां संशोधन लागू करना खराब उदाहरण पेश करेगा.''

पेलोसी ने सदन में कहा कि छह जनवरी को ट्रंप ने अमेरिका के खिलाफ एक घातक विद्रोह को भड़काया, जिसने इसके लोकतंत्र के दिल यूएस कैपिटल (अमेरिकी संसद भवन) पर हमला किया. उन्होंने कहा कि ‘‘तथ्य बिल्कुल स्पष्ट हैं'' कि इस राजद्रोही हमले के पीछे राष्ट्रपति का हाथ था और उन्होंने अपने समर्थकों को इसके लिए उकसाया.