breaking news New

कमला कॉलेज के हिन्दी विभाग द्वारा एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन

कमला कॉलेज के हिन्दी विभाग द्वारा एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबीनार का आयोजन

राजनांदगाव। शासकीय कमला देवी राठी स्नातकोत्तर महिला महाविद्यालय, राजनांदगाव में हिन्दी विभाग द्वारा एक दिवसीय राष्ट्रीय वेबीनार-वर्तमान परिदृश्य में शिक्षा, दशा, दिशा एवं चुनौतियों विषय पर आयोजित किया गया। 

मुख्य अतिथि प्रो. जीडी शर्मा कुलपति, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्व विद्यालय मेद्यालय ने वेबीनार को संबोधित करते हुए कहा कि शिक्षा एक विकसित समाज की नींव होती है। शिक्षा से व्यक्ति के चरित्र का निर्माण होता है तथा शिक्षा मानव को समाज में जीवन निर्वाह योग्य बनाती है। प्रो. शर्मा ने समसामयिक परिप्रेक्ष्य में शिक्षा का माध्यम क्षेत्रीय भाषा में होने पर बल दिया तथा क्षेत्रीय परिवेश में उपलब्ध संसाधनों का संरक्षण-संवर्धन के साथ संपोषित विकास हो सके, ऐसा ही शिक्षा की व्यवस्था विस्तार होना चाहिए। 

विषय विशेषज्ञ प्रो. शैलेन्द्र कुमार शर्मा, विभागाध्यक्ष हिन्दी अध्ययनशाला उज्जैन, मध्यप्रदेश ने कहा कि शिक्षा को व्यवहार परक एवं जीवन में सार्थक बदलाव लाने वाली होना चाहिए। श्रेष्ठ शिक्षा से ही आदर्श नागरिक गढ़े जा सकते हैं और हमारी सांस्कृतिक एकता और अखंडता को सुदृढ़ किया जा सकता है।

विषय विशेषज्ञ डॉ. बीएन जागृत विभागाध्यक्ष पत्रकारिता, शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय राजनांदगांव ने वेबीनार में वैचारिक सहभागिता करते हुए बुनियादी शिक्षा को बढावा देने की बात कही तथा अधिसंख्य व्यक्तियों को आत्मनिर्भर बनाने वाली शिक्षा को लागू करने आव्हान किया। इस वेबीनार में 500 से अधिक अकादमिक व्यक्तियों, शोध छात्र-छात्राओं ने प्रत्यक्षा सहभागिता की एवं यू-ट्यूब में 1400 से अधिक लोगों ने देखा। 

वेबीनार का शुभारंभ संस्था प्रमुख डॉ. सुमन सिंह बघेल प्राचार्य द्वारा स्वागत उद्बोधन से किया गया। डॉ. सुमन सिंह बघेल ने अपने विशेष संबोधन में कहा कि राष्ट्र निर्माण में शिक्षा का सर्वोच्च स्थान है। 2020 में नवीन राष्ट्रीय शिक्षा नीति आई, जिसे शिक्षाविदों के परामर्श से तैयार किया गया है। नई शिक्षा नीति द्वारा स्कूल शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा तक कई बदलाव किए है। गुणवत्तापूर्ण आवश्यक कौशल एवं ज्ञान से युक्त शिक्षण की व्यवस्था प्रत्येक स्तर पर पहुंचे इस दिशा में आवश्यक प्रयास करने होंगे तथा यह समसामयिक आवश्यकता भी है। 

डॉ. बृजवाला उइके विभागाध्यक्ष, हिन्दी ने विषय प्रवर्तन किया तथा वेबीनार का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन आयोजन सचिव डॉ. निवेदिता एलाल के द्वारा किया गया।

बेबीनार के सफल आयोजन में डॉ. एचके गरचा, डॉ. लाली शर्मा, श्रीमती रामकुमारी, धुर्वा, केएल देवांगन एवं वायके दीपक ने विशेष योगदान दिया तथा तकनीकी संचालन रेवती रमन साहू, गोविंद कुमार एवं आशीष मंडले द्वारा किया गया।