breaking news New

शंकर के सवालों से छूटा पसीना...जन- चौपाल में भी उठ रहा कईहा तालाब का मामला

शंकर के सवालों से छूटा पसीना...जन- चौपाल में भी उठ रहा कईहा तालाब का मामला

राजकुमार मल

भाटापारा- गाद परिवहन के काम में नियमों का पालन क्यों नहीं हो रहा है ? नालियां व्यवस्थित करने की योजना कैसी है ? मेड़ पर किया गया अतिक्रमण हटाने में अरुचि के पीछे कौन से कारण हैं ? कब करेंगे नियमानुसार काम ? जैसे सवाल जब "शंकर" ने उठाए, तब जवाब देते नहीं बने। यह सभी सवाल अभी भी अनुत्तरित हैं।


जन-चौपाल, आमजनों को होने वाली समस्याओं से निजात दिलाने हो रहे आयोजन का, मजबूत मंच भले ही बना हुआ है लेकिन अपने शहर में इसका लाभ फिलहाल नहीं मिलता देखा जा रहा है। कई सारी परेशानियों को पीछे छोड़कर शीर्ष पर आ खड़े कईहा तालाब सौंदर्यीकरण में कार्यशैली से नाराजगी, जिस तरह विस्तार ले रही है, उसे देखकर अब जनप्रतिनिधियों ने मौन साध लिया है, तो प्रशासन के पास जवाब नहीं है।

"शंकर" ने यह पूछा...

शंकर वार्ड। ऐसी बसाहट, जिसमें कईहा तालाब की भी हिस्सेदारी है। सौंदर्यीकरण का काम चल रहा है लेकिन काम करने की शैली सभी मानक का उल्लंघन कर रही है। गाद परिवहन का काम जिस शैली में हो रहा है, उससे कीचड़ और धूल तो फैल ही रही है, साथ ही नालियों का बेतरतीब बहाव भी कई तरह की समस्याएं पैदा कर रही है। इसे नियमानुसार नहीं किए जाने पर जब सवाल उठाए, तब जवाब नहीं मिले।

यह भी पूछा

कईहा तालाब की मेड़ पर हो चुके अतिक्रमण कब और कैसे हटाएंगे? जैसे सवाल 'शंकर' ने पूछे, तब जन-चौपाल में मौजूद अधिकारी सन्न रह गए। राशन कार्ड, पेंशन भुगतान जैसी शाश्वत समस्याओं के बीच, यह सवाल एकदम नया था। नालियां कैसे व्यवस्थित की जाएंगी? इसका भी जवाब नहीं दिया जा सका। "शंकर" पीछे हटने को तैयार नहीं है। जो ज्ञापन उसने दिया है उसमें आग्रह किया गया है कि इन तीनों काम को व्यवस्थित तरीके से किए जाने के आदेश दिए जाएं।