breaking news New

हाथियों को लेमनग्रास और राजा मिर्च से भगाएंगे किसान

हाथियों को लेमनग्रास और राजा मिर्च से भगाएंगे किसान

रायपुर, 17 जून। वन विभाग ने छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले के 50 गांवों को हाथियों के आतंक से मुक्ति दिलाने के लिए राजा हरी मिर्च और लेमनग्रास के सूत्र का उपयोग करना शुरू कर दिया है। दोनों के गंध से हाथी दूर भागता है। जिले में 18 हाथियों का झुंड ग्राम कसावाही केजंगल में पहुंचा था तो उस समय खरीदी केंद्र में राजा हरी मिर्च रखी थी। उसकी गंध के कारण हाथियों का दल वहां नहीं आया।

दो वर्षों तक अध्ययन के बाद वन विभाग ने दोनों पौधों को नर्सरी में तैयार कर प्रभावित गांवों में निःशुल्क वितरण करने जा रहा है। किसानों को इसकी खेती के लिए प्रेरित और प्रशिक्षित भी किया जा रहा है। उनको समझाया जा रहा है कि इससे एक तरफ हाथी खेतों तक नहीं आएंगे, वहीं राजा मिर्च और लेमनग्रास बेचकर मूल फसल के अलावा अतिरिक्त आमदनी भी कर सकेंगे।

धमतरी के गंगरेल बांध के डुबान क्षेत्र व नगरी ब्लाक के सघन गांवों तक हाथियों को आने से रोकने वन विभाग ने बाजार से बड़ी मात्रा में राजा हरी मिर्च खरीदकर ग्रामीण क्षेत्रों रखवाया था, इसलिए हाथी गांवों में नहीं आए। इस दौरान पाया गया कि हरी मिर्च और लेमनग्रास की गंध से हाथियों में एलर्जी से सर्दी हो जाती है। ऐसे में हाथी नहीं चल पाते और परेशान हो जाते हैं।

पिछले कुछ सालों से हाथी प्रभावित क्षेत्रों में ड्यूटी करने वाली धमतरी की डीएफओ सतोविशा समाजदार का कहना है कि राजा हरी मिर्च व लेमनग्रास का सफल प्रयोग पड़ोसी जिला बालोद में कर चुकी हैं। वहां केकिसान और लोगों को हाथियों से सुरक्षित रखा था। अब धमतरी में इसका प्रयोग कर रही हैं। उन्होंने बताया कि हाथी प्रभावित केरल में हरी मिर्च के साथ इसका स्प्रे हाथियों को भगाने के लिए किया जाता है।

वहीं बंगाल में हाथियों को भगाने के लिए वहां केकिसान खेतों के मेड़ों पर लेमन ग्रास लगाते हैं। धमतरी के किसानों को भी खेतों केमेड़ों पर बीच-बीच में राजा हरी मिर्च व लेमनग्रास की खेती के लिए प्रेरित कर रहे हैं। मनरेगा के तहत इसकी नर्सरी तैयार कराई जा रही है। रेजरों को किसानों को प्रेरित करने निर्देशित किया जा चुका है। नर्सरी तैयार होने पर निश्शुल्क नर्सरी वितरण किया जाएगा।

हाथी प्रभावित गांवों के किसान खरीफ सीजन में सिर्फ धान फसल लेते हैं, जो उनके आय का एकमात्र साधन है। किसान हाथियों को भगाने के लिए अपने खेतों के मेड़ों पर मिर्च और लेमनग्रास भी लगाएंगे। उनके उत्पाद को बेचकर किसान मूल फसल के अलावा अतिरिक्त आमदनी कर सकेंगे, जिससे उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत होंगे। किसानों में भी इसे लगाने दिलचस्पी दिखा रहे हैं।