breaking news New

पंडित सुंदरलाल शर्मा की जयंती कांग्रेस भवन में गरिमा व सादगी के साथ मनाई गई

पंडित सुंदरलाल शर्मा की जयंती कांग्रेस भवन में गरिमा व सादगी के साथ मनाई गई

जगदलपुर, 21 दिसंबर। बस्तर जिला कांग्रेस कमेटी (शहर) के द्वारा स्थानीय कांग्रेस भवन में पंडित सुंदरलाल शर्मा की जयंती गरिमा और सादगी के साथ मनाई गई उनके छायाचित्र पर सर्वप्रथम जिला कांग्रेस कमेटी ने  माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धांजलि दी।

महापौर सफीरा साहू ने उनकी जीवनी पर प्रकाश डालते हुए बताया कि राजिम के पास एक गांव है जिसका नाम चमसुर है उसी चमसुर गांव में 21 दिसंबर 1881 को पंडित सुंदरलाल शर्मा का जन्म हुआ था पंडित सुंदरलाल शर्मा छत्तीसगढ़ में जन जागरण और सामाजिक क्रांति के अग्रदूत थे वह एक कवि सामाजिक कार्यकर्ता समाज सेवा के इतिहासकार स्वतंत्रता संग्राम सेनानी और बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे उन्हें छत्तीसगढ़ का गांधी भी कहा जाता था नाट्य कला,मूर्तिकला,चित्रकला में पारंगत विद्वान श्री शर्मा प्रहलाद,चरित्र, करुणा-पचीसी व सतनामी भजन माला जैसे ग्रंथों के रचयिता थे छत्तीसगढ़ की राजनीति व देश के स्वतंत्रता आंदोलन में उनका ऐतिहासिक योगदान है पंडित सुंदरलाल शर्मा के सम्मान में उनके नाम पर पंडित सुंदरलाल शर्मा मुक्त विश्वविद्यालय छत्तीसगढ़ के स्थापना की गई।

जिला महामंत्री अनवर खान,पूर्व पार्षद,राजेश चौधरी,कौशक नागवंशी, योगेश पाणिग्राही,जावेद खान,ने कहा कि पंडित सुंदरलाल शर्मा हमेशा कहते थे कि हमें समाज की बुराइयों को जल्द से जल्द दूर करने का प्रयास करना चाहिए उनका यह मानना था कि बचपन से ही किताबें पढ़ने की आदत होनी चाहिए सन 1914 में राज्य में उन्होंने एक पुस्तकालय की स्थापना की थी सन 1920 में महात्मा गांधी को छत्तीसगढ़ में लाने वाले यही एक स्वतंत्रता सेनानी थे उनके शिक्षा दीक्षा की व्यवस्था उनके पिता ने बहुत ही अच्छे तरीके से उनके घर पर ही कर रखी थी असहयोग आंदोलन के दौरान छत्तीसगढ़ से जेल जाने वाले व्यक्तियों में आप प्रमुख थे जीवन प्रेम सादा जीवन उच्च विचार के आदेश का पालन करते रहें समाज सेवा में रत परिश्रम के कारण शरीर चीन हो गया और 28 दिसंबर 1940 को आपका निधन हो छत्तीसगढ़ शासन ने उनकी स्मृति में साहित्य/आँचिलेक साहित्य के लिए पंडित सुंदरलाल शर्मा सम्मान स्थापित किया है कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ कांग्रेसी सतपाल शर्मा जी ने किया।

यह रहे मौजूद....

कैलास नाग,राकेश मौर्य,लता निषाद,शहनाज़ बेगम, शहनवाज़ खान,अफ़रोज़ा बैगम,हरिशंकर सिंह,एम वेंकट राव,महेश द्विवेदी, अंकित सिंह,नरेंद्र तिवारी, पापिया गाइन,गायत्री मगराज,अल्ताफ़ उल्लाह खान,संदीप दास,सुंदर मनी,धवल जैन,प्रवीन जैन,अशोक मंडावी,संजय रॉय,चन्द्रभान झाड़ी आदि कांग्रेस परिवार के सदस्यगण उपस्थित थे।